करूणानिधि ने कहा, राष्ट्रमंडल बैठक में शामिल न हों प्रधानमंत्री

  • करूणानिधि ने कहा, राष्ट्रमंडल बैठक में शामिल न हों प्रधानमंत्री
You Are HereNational
Friday, November 08, 2013-3:11 PM

चेन्नई: राष्ट्रमंडल देशों के शासनाध्यक्षों की बैठक (चोगम) में देश के शामिल होने के मुद्दे पर फैसले के लिए कांग्रेस कोर समूह द्वारा जारी विचार विमर्श के बीच द्रमुक अध्यक्ष एम करूणानिधि ने आज दबाव बढ़ाते हुए कहा कि भारत को श्रीलंकाई तमिलों के मुद्दे को लेकर कोलंबो में होने वाली बैठक का बहिष्कार करना चाहिए। संवाददाताओं के सवालों का जवाब देते हुए करूणानिधि ने यहां उम्मीद जतायी कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अपने विवेक के अनुसार काम करेंगे।

 

उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री में विवेक है। अगर वह अपने विवेक के अनुसार फैसला लेते हैं तो यह सही होगा।’’ एक सवाल के जवाब में करूणानिधि ने कहा कि द्रमुक पहले ही संप्रग नीत सरकार से बाहर हो चुकी है, सरकार को उसके समर्थन का सवाल ही नहीं उठता। उन्होंने कहा, ‘‘हम पहले ही मंत्रिमंडल से बाहर हो चुके हैं। बाहर से समर्थन देने से जुड़ा अब कोई मुद्दा नहीं है।’’ श्रीलंकाई तमिलों के मुद्दों पर द्रमुक ने मार्च में संप्रग से अपने संबंध तोड़ लिए थे और मनमोहन सिंह सरकार से उसके मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया था।

 

15 नवंबर से तय राष्ट्रमंडल शिखर बैठक में भारत के शामिल होने का अन्नाद्रमुक, द्रमुक और भाजपा समेत तमिलनाडु के राजनीतिक दल कड़ा विरोध कर रहे हैं और राज्य विधानसभा ने भी बैठक के पूर्ण बहिष्कार की मांग को लेकर एक प्रस्ताव पारित किया है। कांग्रेस कोर समूह इस मुद्दे पर फैसला लेने के लिए आज दिल्ली में बैठक कर रहा है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You