मछुआरों के मामले मे केन्द्र का रवैया उदासीन: जयललिता

  • मछुआरों के मामले मे केन्द्र का रवैया उदासीन: जयललिता
You Are HereNational
Friday, November 08, 2013-4:36 PM

चेन्नई: तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता ने श्रीलंकाई सेना द्वारा राज्य के मछुआरों पर लगातार हो रहे हमलों के प्रति केन्द्र के उदासीन एवं ढुलमुल रवैये की कडी आलोचना करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से इस मसले को उच्च राजनयिक स्तर पर ले जाते हुए 86 मछुआरों को छुडवाने का आग्रह किया है। जयललिता ने इस संबंध में आज प्रधानमंत्री को पत्र लिखा जिसकी प्रतियां मीडिया में जारी की गईं।

 

उन्होंने अपने पत्र में कहा कि भारत सरकार के कमजोर रवैये के कारण श्रीलंकाई सेना के हौसले बुलंद हो रहे हैं और उनकी हदें बढ़ती जा रहीं हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री से उचित कदम उठाते हुए श्रीलंकाई सेना के कब्जे 86 मछुआरों को उनकी 42 नौकाओं के साथ छुडवाने का आग्रह किया है। जयललिता ने कहा कि केन्द्र के इस रवैये से श्रीलंकाई सेना की लड़ाकू प्रवृति और अक्कड़ बढ़ रही है। भारत सरकार को अपने रवैये में बदलाव लाना होगा।

 

तभी श्रीलंकाई सेना अपनी सीमा में रह सकेगी। गरीब एवं निरीह मछुआरों पर इस तरह के अत्याचार से उनके परिजन भुखमरी के कगार पर पहुंच जाते हैं। श्रीलंकाई सेना के इस कदम की कडे से कड़े शब्दों में भर्त्सना की जानी चाहिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You