बिलासपुर में भाजपा को कांग्रेस से मिल रही कड़ी चुनौती

  • बिलासपुर में भाजपा को कांग्रेस से मिल रही कड़ी चुनौती
You Are HereNational
Monday, November 11, 2013-3:37 PM

बिलासपुर (छत्तीसगढ़): किसी भी राज्य में चुनाव से पहले अंतिम क्षण में सत्ता पक्ष द्वारा निर्वाचन क्षेत्रों में विकास कार्यों का आदेश दिए जाने की कहानी आम है और बिलासपुर भी इस मामले में कोई अपवाद नहीं है। छत्तीसगढ़ के प्रमुख शहरों में एक बिलासपुर, जहां 19 नवंबर को चुनाव होने जा रहा है, में जीर्ण शीर्ण सड़कों की मरम्मत और फुटपाथों से अतिक्रमण हटाने जैसे कई काम होते देखे जा सकते हैं।

 

छत्तीसगढ़ की 90 सदस्यीय विधानसभा में पिछले दस वर्षों से बिलासपुर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे राज्य के स्वास्थ्य मंत्री और भाजपा उम्मीदवार अमर अग्रवाल को यहां शहर की महापौर एवं कांग्रेस उम्मीदवार वाणी राव से विकास की कमी सहित कई अन्य मुद्दों पर कड़ी चुनौती मिल रही है। राव ने यहां रेलवे कॉलोनी में मतदाताओं से बातचीत के दौरान कहा, ‘‘आप सड़कों की हालत देखिए। वे बहुत खराब स्थिति में हैं। यहां शहर में काफी धूल है।

 

भाजपा ने पिछले दस वर्षों के अपने शासनकाल में कोई काम नहीं किया है। लोग तंग आ चुके हैं और बदलाव चाहते हैं।’’ राव ने यहां जनसंपर्क कार्यक्रम शुरू किया है और बिलासपुर विधानसभा के प्रत्येक हिस्से में जाकर मतदाताओं से मिलने की कोशिश कर रही हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यहां से भाजपा के जीतने वाले विधायक स्वास्थ्य मंत्री है। तब भी बावजूद सड़कों की सेहत खराब पड़ी है। सत्ताधारी पार्टी ने युवाओं के लिए कुछ भी नहीं किया।

 

मुझे पूरा विश्वास है कि लोग अपनी बेहतरी के लिए इस चुनाव में कांग्रेस को वोट देकर सत्ता तक पहुंचाएंगे।’’ बिलासपुर की महापौर के तौर पर राव के कार्यों और उनके जन समर्थक रवैये को जनता के एक वर्ग से स्वीकृति प्राप्त है, वहीं लोगों के कल्याण और विकास की दिशा में अग्रवाल के रवैये की कुछ लोग आलोचना कर रहे हैं। बिलासपुर स्थित जिला अस्पताल और छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान (सीआईएमएस) यहां के दो प्रमुख सरकारी अस्पताल हैं और यहां सत्ताधारी पार्टी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) से इसकी तुलना करती है।

 

हालांकि, इन दोनों अस्पताल में डॉक्टर से दिखाने आए मरीजों की लंबी कतारें और गंभीर रूप से बीमार मरीजों के परिजनों को खाली बिस्तर की तलाश में बेतहाशा इधर उधर भटकते देखा जा सकता है, और ऐसे में प्रशासन द्वारा इन दोनों ही अस्पतालों का नवीनीकरण और क्षमता बढ़ाए जाने की सख्त जरूरत है। वहीं दूसरी तरफ, भाजपा उम्मीदवार अग्रवाल शहर और इसके लोगों के कल्याण के लिए कई कदम उठाने का दावा कर रहे हैं।

 

उन्होंने अपने प्रचार में बांटी जा रही पर्चियों में वादा किया है कि आगामी चुनाव में जीतने के बाद वह दो बड़े फ्लाइओवर बनाएंगे और घर से कूड़े एकत्र करने और उनके सुरक्षित निपटारे के लिए ठोस कचरा प्रबंधन योजना शुरू करेंगे। उन्होंने शहर में नियमित जलापूर्ति सुनिश्चित करने के लिए 2,300 करोड़ रुपए की लागत से ‘अर्पा विकास योजना’ शुरू करने का भी वादा किया है। इन चुनावी वादों के बीच क्षेत्र के लोग यहीं उम्मीदवार कर रहे हैं कि विजेता उम्मीदवार राज्य में विकास की बयार लाएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You