मुसलमानों को करीब लाना चाहता है भाजपा और संघ

  • मुसलमानों को करीब लाना चाहता है भाजपा और संघ
You Are HereNational
Monday, November 18, 2013-10:20 PM

नई दिल्ली : भाजपा के पूर्व अध्यक्ष नितिन गडकरी ने पार्टी के साथ मुसलमानों को जोडऩे की जरूरत पर जोर देते हुए आज कहा कि मुस्लिम समुदाय में ‘कांग्रेस द्वारा भाजपा के प्रति फैलाई जा रही डर की धारणा’ को दूर करके आपसी दूरियों को खत्म करने का प्रयास किया जाना चाहिए।

 गडकरी ने अपने आवास पर आज उर्दू संपादकों के साथ बातचीत में कहा कि भाजपा भी यह चाहती है और संघ में भी। यह राय है कि मुस्लिम समुदाय के साथ दूरियों को कम किया जाए। धीरे-धीरे इन दूरियों को पूरी तरह खत्म किया जा सकता है। यह परस्पर संवाद से संभव है।

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने बीते 65 सालों से मुसलमानों के बीच भाजपा के प्रति भय की धारणा को फैलाया है। हकीकत में ऐसा कुछ नहीं है। मैं संघ का स्वयंसेवक हूं और पूरी जिम्मेदारी से कह सकता हूं कि जो बातें फैलाई गई हैं, वे वास्तविकता से परे हैं। अगर हमारे बारे में कोई गलत धारणा फैलाई गई है तो यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम उसको दूर करने का प्रयास करें। 

 गडकरी ने कहा कि हम जाति, धर्म और पंथ के आधार पर भेदभाव नहीं करते। इसके बावजूद हमें (मुस्लिम समुदाय में) खलनायक के रूप में पेश किया गया। कांग्रेस भ्रम फैलाकर वोट बैंक की राजनीति को साध रही है। मुसलमानों के सामने सबसे बड़ी चुनौती भुखमरी, बेरोजगारी और अशिक्षा की है। हम इन समस्याओं को दूर करना चाहते हैं।

वहीं मुजफ्फरनगर दंगे पर उन्होंने कहा कि दंगें कहीं भी होते हैं, वो दुर्भाग्यपूर्ण हैं। परंतु भाजपा शासित राज्यों में अमन रहा है। मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार में मुसलमान खुश हैं। गुजरात में मुसलमानों की प्रति व्यक्ति आय देश में सबसे ज्यादा है। हमारी पार्टी विकास की राजनीति की पक्षधर है।

रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के बारे में उन्होंने कहा कि हर बिंदु पर हमारे विचार एक जैसे नहीं हो सकते। अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए, यह पार्टी का मत है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You