तरूण तेजपाल ने कहा, 7 नवंबर को जो कुछ हुआ वह हंसी-मजाक में हुआ

  • तरूण तेजपाल ने कहा, 7 नवंबर को जो कुछ हुआ वह हंसी-मजाक में हुआ
You Are HereNational
Tuesday, November 26, 2013-3:38 PM

नई दिल्ली: यौन उत्पीडऩ़ के आरोप में फंसे तहलका पत्रिका के संपादक तरूण तेजपाल खुद को राजनीतिक साजिश में फंसाए जाने की बात कह रहे हैं। तेजपाल ने इसके पीछे बीजेपी की साजिश करार दिया है। उन्होंने कहा है कि उनके ऊपर झूठा केस किया गया है और पूरी साजिश के पीछे बीजेपी है। तेजपाल ने गोवा पुलिस पर भी सवाल उठाए हैं।

तेजपाल ने कहा कि गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर इस मामले में सीधे पुलिस को निर्देश दे रहे हैं। तेजपाल ने दिल्ली हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत की याचिका दाखिल करते हुए इस मामले की जांच गोवा पुलिस के बजाय सीबीआई या किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराने की अपील की है। तेजपाल की याचिका पर बुधवार को सुनवाई होगी।

आरोप लगाते हुए तेजपाल ने कहा कि गोवा पुलिस कि कार्रवाई गलत और अन्यायपूर्ण है। तहलका की सीनियर एडिटर राना अय्यूब ने भी तहलका से इस्तीफा दे दिया है। राणा ने बदले हालात में तहलका में काम करना असंभव बताया और कहा कि सिद्धांतों की वजह से उन्होंने ऐसा किया है।

वहीं दूसरी ओर, तरुण तेजपाल पर कोर्ट में गोवा पुलिस ने तेजपाल की अग्रिम जमानत का विरोध किया है। पुलिस का कहना है कि तेजपाल के खिलाफ उनके पास पुख्ता सबूत हैं। वहीं तेजपाल ने अग्रिम जमानत की जो याचिका दी है उसमें भी पीड़ित पत्रकार को परेशान करने वाली बातें हैं। याचिका में कहा गया है कि 7 नवंबर को जो कुछ हुआ वह हंसी-मजाक में हुआ। यह दिल्लगी का ऐसा लम्हा था, जब दो लोग एकांत में होते हैं।

घटना के अगले दिन 8 नवंबर को दोनों लोग फिर मिले, लेकिन दोबारा ऐसा कुछ नहीं हुआ। कथित तौर पर पीड़ित सहयोगी बिल्कुल सामान्य थी और अपनी गोवा यात्रा के दौरान मौज−मस्ती करती रही। वह शाम 7.30 से 8 के बीच रेमो फर्नांडिस के कार्यक्रम में भी गई और वहां देर रात तक रही। यौन हमले की शिकायत पूरी तरह बनावटी और झूठी है। शिकायत की जो भाषा है, उसमें भी काफी विरोधाभास है।


 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You