प्रधानमंत्री ने जनता से किया अन्याय: हजारे

  • प्रधानमंत्री ने जनता से किया अन्याय: हजारे
You Are HereNational
Friday, November 29, 2013-5:20 PM

पुणे: भ्रष्टाचार के खिलाफ अलख जगाने वाले प्रसिद्ध समाजसेवी अन्ना हजारे ने आज कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जनलोकपाल विधेयक न लाकर देश की जनता के  साथ नाइंसाफी कर रहे हैं और इसके विरोध में वह संसद के  शीतकालीन सत्र से एक दिन पहले फिर से अनिश्चितकालीन अनशन क रेंगे। हजारे ने कहा कि इस बार वह स्वास्थ्य कारणों से दिल्ली के रामलीला मैदान के बजाय रालेगण सिद्धि स्थित यादवबाबा मंदिर में अनशन पर बैठेंगे।

उन्होंने दोहराया कि वर्ष 2011 में दिल्ली में अनिश्चितकालीन अनशन शुरू होने के बाद से प्रधानमंत्री ने कई बार वचन दिया और कहा कि सरकार लोकपाल विधेयक के लिये प्रतिबद्ध है लेकिन दो वर्ष गुजर गये. लेकिन इस दिशा में कोई प्रगति नहीं हुई।जब भी लोकपाल के मुद्दे को उठाया गया प्रधानमंत्री ने उन्हें झूठे आश्वासन ही दिये। 

हजारे ने कहा कि अनिश्चितकालीन अनशन के संदर्भ में कल प्रधानमंत्री को पत्र भेज दिया गया है।उन्होंने पत्र में 'शाब्दिक हिंसा' का उल्लेख करते हुये कहा... मैंने अपने जीवन में हमेशा ही अहिंसा के सिद्धांतो का अनुसरण किया है और किसी तरह की हिंसा का पक्षधर नहीं रहा लेकिन इस पत्र में मैं शब्दिक हिंसा का जिक्र कर रहा हूं। मैं इसे समझता हूं लेकिन इसके लिये सरकार ही जिम्मेदार है। ऐसे किसीशाब्दिक ङ्क्षहसा से समाज का भला होता है तो इसमें यह कोई अपराध नहीं होगा।...


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You