सरकार की सख्ती का दिखा असर: कुछ चीनी मीलों में काम शुरु

  • सरकार की सख्ती का दिखा असर: कुछ चीनी मीलों में काम शुरु
You Are HereNational
Saturday, November 30, 2013-2:26 PM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में चीनी मीलों में गन्ने की पेराई का काम शुरु कराने के लिए सरकार की सख्ती का असर अब दिखने लगा है। सरकार के कड़े निर्देश के बाद पश्चिमी उप्र की कई चीनी मिलों ने पेराई का काम अब शुरु कर दिया है। राज्य में हालांकि अभी कई चीनी मिलें बंद हैं और किसानों का आंदोलन जारी है।

पश्चिमी उप्र की तीन चीनी मिलों एवं पूर्वी उप्र की पांच निजी चीनी मिलों ने पेराई का काम शुरु कर दिया है। इसके अलावा सहकारी क्षेत्र की 24 में से 22 चीनी मिलों ने काम करना शुरु कर दिया है। पश्चिमी उप्र में मुजफ्फरनगर की रोहना, मेरठ की सकौती और बिजनौर की चीनी मिल में पेराई का काम शुरु हो गया है। इसके अलावा पूर्वी क्षेत्र में कुशीनगर, गोरखपुर, बहराइच की दो चीनी मिलों में काम शुरू हो गया है। पूर्वांचल में मऊ जिले के घोषी में स्थित चीनी मिल में भी काम शुरू हो गया है।

सरकार ने गुरुवार को सख्त दिशानिर्देश जारी किए थे। सरकार की तरफ से पश्चिमी उप्र की चीनी मिलें चार दिसंबर और शेष क्षेत्रों की चीनी मिलें सात दिसंबर तक हर हाल में शुरू करने के आदेश दिए थे। सरकार ने यह भी कहा था कि यदि तय सीमा के भीतर चीनी मिलों में गन्ने के पेराई का काम शुरु नहीं हुआ तो सरकार मिल मालिकों के खिलाफ  कड़ी कार्रवाई करेगी। सरकार के इस फरमान के बाद कुछ चीनी मिलों ने पेराई का काम शुरु कर दिया है।

इधर, सरकार की सख्ती के बावजूद उप्र की कई चीनी मिलें अभी भी बंद हैं। मेरठ, शामली, बागपत, बरेली, लखीमपुर खीरी सहित कई जिलों में मिलों को शुरू कराने के लिए किसान अभी भी आंदोलन कर रहे हैं। किसानों के इस आंदोलन में राजनीतिक दल भी कूद पड़े हैं जिसके बाद सरकार के लिए स्थिति काफी चुनौतिपूर्ण हो गई है।

इस बीच भारतीय कम्युनिष्ट पार्टी (भाकपा) ने गन्ना किसानों के समर्थन में नौ दिसम्बर को राज्यव्यापी आंदालेन करने का ऐलान किया है। राज्य सचिव डॉ. गिरीश ने बताया कि पेराई का आधा सत्र बीत जाने के बाद भी कामकाज शुरू नहीं हो पाया है। किसानों की मांगो को लेकर नौ दिसंबर को पूरे प्रदेश में आंदोलन किया जाएगा। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष निर्मल खत्री ने कहा है कि यदि सात दिसंबर तक चीनी मिलें शुरू नहीं हुई तो पार्टी सड़क पर उतरकर जोरदार आंदोलन करेगी।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You