मोदी पर टिप्पणी करने के लिए चिदंबरम से माफी की मांग

  • मोदी पर टिप्पणी करने के लिए चिदंबरम से माफी की मांग
You Are HereNational
Sunday, December 01, 2013-7:54 PM

नई दिल्ली: भाजपा ने वित्त मंत्री पी चिदंबरम के उस बयान को ‘‘गलत और जल्दबाजी’’ में दिया गया वक्तव्य करार दिया कि नरेन्द्र मोदी अर्थव्यवस्था पर पाठ पढ़ा रहे हैं। पार्टी ने चिदंबरम से माफी मांगने को कहा है। विवाद तब उत्पन्न हो गया जब चिदंबरम ने दावा किया कि मोदी ने यह कहकर उन्हें गलत तरीके से उद्धृत किया है कि सोना खरीदने से महंगाई बढ़ती है। वित्त मंत्री ने एक बयान जारी कर ऐसी बात कहने से इंकार किया। उन्होंने मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह अर्थव्यवस्था पर पाठ पढ़ा रहे हैं।

एक प्रमुख समाचार पत्र ने आज कहा कि पत्र ने मोदी का गलत ढंग से हवाला दिया। उन्होंने महंगाई का उल्लेख नहीं किया था और यही कहा था कि देश एक आर्थिक संकट से गुजर रहा है। भाजपा प्रवक्ता निर्मला सीतारमन ने एक बयान में कहा, ‘‘जल्दबाजी में दिए गए उनके (चिदंबरम के) बयान, जिसकी एक केन्द्रीय मंत्री से उम्मीद नहीं की जाती, में मोदी को शामिल कर उनकी पार्टी की अक्षमता एवं हताशा का खुलासा हुआ है।’’ उन्होंने कहा कि भाजपा चिदंबरम से मांग करती है कि वह माफी मांगे।

सीतारमण ने कहा, ‘‘जल्दबाजी में दिए गए अपने बयान, जो आडंबरपूर्ण शब्दों एवं कटाक्ष से भरपूर होता है, चिदंबरम ने अर्थव्यवस्था को प्रबंधित करने में अपनी विफलता को ढंकने का प्रयास किया है। मंत्री इस बात की पुष्टि करना भूल गए कि मोदी ने वास्तव में कहा क्या था। यदि उन्होंने भाषण की पुष्टि की होती तो चिदंबरम को पता चल जाता कि सही शब्द आर्थिक संकट थे न कि मुद्रास्फीति।’’

चिदंबरम को आड़े हाथ लेते हुए उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री जहां व्याख्यान और पाठ पढ़ाने में व्यस्त हैं वहीं मोदी गुजरात के लोगों को सुशासन एवं विकास देने में व्यस्त हैं। सीतारमन ने कहा कि सभी अर्थशास्त्री मोदी के प्रदर्शन बनाम चालू खाता घाटे की उस बिगड़ती स्थिति पर खासा ध्यान दे रहे हैं जिसके लिए चिदंबरम और उनकी पार्टी पूरी तरह से जिम्मेदार है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You