अनुच्छेद 370 को रद्द करने का मतलब जम्मू-कश्मीर का विलय: उमर

  • अनुच्छेद 370 को रद्द करने का मतलब जम्मू-कश्मीर का विलय: उमर
You Are HereNational
Thursday, December 05, 2013-9:26 AM

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने आज चेतावनी भरे लहजे में कहा कि केंद्र और राज्य के बीच के संबंध को परिभाषित करने वाले अनुच्छेद 370 को रद्द करने का कोई भी कदम भारत मेें राज्य के विलय के मुद्दे को दोबारा उठा देगा। उमर ने साथ ही कहा कि संविधान का अनुच्छेद 370 जम्मू कश्मीर और शेष भारत के बीच एक ‘पुल’ की तरह काम करता है और इसे कमजोर करने की कोशिश से सिर्फ यह संबंध ही कमजोर होगा।

उमर का यह बयान प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के जम्मू में दिए हालिया बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 से राज्य को हुए लाभ एवं हानि पर बहस का आह्वान किया था। इंडिया टुडे समूह द्वारा आयोजित समारोह ‘अजेंडा आज तक’ में भाजपा नेता विजय जॉली के एक सवाल का जवाब देते हुए उमर अफसोस जताते हुए कहा कि अनुच्छेद 370 को इस तरह पेश किया जा रहा है कि इसने राज्य को देश के बाकी हिस्सों से दूर कर दिया है। उन्होंने कहा, ‘ठीक है आप अनुच्छेद 370 को रद्द करने की बात करते हैं, तो कृप्या मुझे समझाए आप किस तरह से इसे रद्द करेंगे।’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You