एक्जिट पोल को लेकर भाजपा में उत्साह, कांग्रेस ने नकारा

  • एक्जिट पोल को लेकर भाजपा में उत्साह, कांग्रेस ने नकारा
You Are HereNational
Friday, December 06, 2013-3:06 PM

रायपुर: छत्तीसगढ़ समेत पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव को लेकर विभिन्न ऐंजेसियों द्वारा किए गए एक्जिट पोल के नतीजों को लेकर राज्य में भाजपा ने जहां उत्साह जताया है वहीं कांग्रेस ने इसे चंद लोगों का दिमागी फितूर कहा है।

राज्यों में हुए मतदान के बाद जारी किए एक्जिट पोल के नतीजों को लेकर मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि वह राज्य में तीसरी बार सरकार बनाएंगे तथा भाजपा की सीट एक्जिट पोल के नतीजों से ज्यादा रहेंगी। सिंह ने कहा कि सरकार पूर्ण बहुमत में सरकार बनाएगी तथा इस बार के नतीजे भाजपा के पक्ष में चौकाने वाले होंगे। इधर कांग्रेस ने एक्जिट पोल के नतीजों को नकार दिया है तथा कहा है कि छत्तीगसढ़ में कांग्रेस पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाएगी।

एक्जिट पोल द्वारा घोषित किये गये नतीजों को मनगढ़ंत काल्पनिक और अवैज्ञानिक बताते हुये प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि आठ दिसंबर को सारे अनुमान ध्वस्त हो जायेंगे। मतगणना के बाद एक्जिट पोल की हवा निकल जायेगी यह थोथे अनुमान है।

शुक्ला ने कहा कि छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार के खिलाफ बदलाव की हवा चल रही है। राज्य  की जनता ने भाजपा सरकार के कुशासन और भ्रष्टाचार के खिलाफ मतदान किया है जो मतगणना में सामने आ जायेंगे। राज्य में कांग्रेस पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रही है। छत्तीसगढ़ के सभी क्षेत्रों बस्तर, सरगुजा, बिलासपुर, रायगढ, रायपुर, दुर्ग में कांग्रेस बढ़त लेगी।

उन्होंने कहा कि एक्जिट पोल चंद लोगों का दिमागी फितूर के अलावा और कुछ नहीं है। कोई भी सर्वे अनुमान के आधार पर वोट परसेंटेज के आंकलन का दावा तो कर सकता है लेकिन वोट प्रतिशत को सीट में कैसे बदल पायेंगे, इसका आधार क्या है? इसको भी स्पष्ट करना चाहिये। एक तरफ तो एक्जिट पोल वाले भाजपा को अधिक मत प्रतिशत मिलने की बात करते हैं दूसरी ओर उनकी सीटे घटने का भी दावा करते है। यदि भाजपा को मत अधिक मिल रहे हैं तब सीटें कम कैसे हो रही है? इसी प्रकार वे कांग्रेस के संदर्भ में मत कम होने और सीटे यथावत रहने की बात करते है।
 

शुक्ला ने कहा कि इससे पहले पंजाब, हिमाचल और कर्नाटक के विधानसभा चुनाव में भी एक्जिट पोल के दावे गलत साबित हुये थे। सेंपल पोल लेने का आधार भी किसी भी प्रकार से वैज्ञानिक और तथ्यात्मक नहीं है। यह परिणाम और प्रक्रिया त्रुटिपूर्ण विश्लेषण की उपज मात्र है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You