क्या सोनिया और अधिक सक्रिय भूमिका निभाएंगी ?

  • क्या सोनिया और अधिक सक्रिय भूमिका निभाएंगी ?
You Are HereNational
Saturday, December 07, 2013-12:41 AM

नई दिल्ली: यदि कांग्रेस को विधानसभा चुनावों में एग्जिट पोल के अनुमानों के मुताबिक 0-4 से करारी शिकस्त मिलती है तो फिलहाल नेपथ्य में मौजूद सोनिया गांधी फिर से अग्रिम मोर्चे पर आ सकती हैं। पार्टी सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस के गलियारों में चर्चा है कि चुनावों का इस तरह का नतीजा (मिजोरम को छोड़ कर) आने पर बड़े बदलाव देखने को मिल सकते हैं। उन्होंने बताया कि चुनावों में शिकस्त मिलने से सोनिया लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखकर पार्टी को तैयार करने के लिए कहीं अधिक सक्रिय भूमिका निभा सकती है। विधानसभा चुनावों में यह जिम्मेदारी उन्होंने अपने बेटे राहुल को दी थी।

बदलावों का असर संगठन और सरकार दोनों पर दिखने की उम्मीद है। वहीं कई मंत्रियों को ऐसे समय में संगठनात्मक कार्यों में लगाए जाने की संभावना है, जब लोकसभा चुनाव महज पांच महीने दूर हैं। ठीक इसी वक्त यह महसूस किया जा रहा है कि दिल्ली, राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के चुनावों में पार्टी के खिलाफ 0-4 से शिकस्त मिलने का मतलब यह होगा कि देश में संप्रग विरोधी लहर है। हालांकि, यह भी माना जा रहा है कि 3-1 से जीत मिलने पर पार्टी थोड़ी राहत की सांस लेगी।

वहीं, चुनाव मुकाबले में 2-2 नतीजा आने से कांग्रेस और आक्रामक हो जाएगी और वह संगठन को मजबूत करेगी। इसे भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी के लिए एक झटके के तौर पर देखा जाएगा जो इसके स्टार प्रचारक हैं। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि यदि पार्टी का प्रदर्शन खराब रहता है तो इसके लिए केंद्रीय मंत्रियों सहित पार्टी नेताओं के एक धड़े के अहम को जिम्मेदार ठहराए जाने की जरूरत है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You