अब मोदी फैक्टर पर बहस

  • अब मोदी फैक्टर पर बहस
You Are HereNcr
Monday, December 09, 2013-3:23 PM

नई दिल्ली (सुनील पाण्डेय): चार राज्यों के विधानसभा चुनाव नतीजे आने के साथ ही मोदी फैक्टर को लेकर चर्चाएं शुरू हो गईं। वसुंधरा राजे ने राजस्थान में भाजपा की जीत का श्रेय पार्टी के पीएम प्रत्याशी नरेंद्र मोदी को दिया। सियासी गलियारे में कहा जा रहा है कि मोदी की लहर के कारण मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में भाजपा की वापसी संभव हो पाई। चर्चाएं जो भी हों, दिल्ली के नतीजों ने साफ कर दिया कि यहां मोदी का जादू नहीं चला।

दिल्ली में नरेंद्र मोदी फैक्टर की बात करें तो अंबेडकर नगर में उन्होंने रैली की, जिसका कोई असर नहीं दिखा। अंबेडकर नगर, संगम विहार एवं देवली तीनों सीटों पर भाजपा हार गई। ये सभी सीटें आम आदमी पार्टी के खाते में गई। वहीं बदरपुर में शुरू से ही पार्टी नहीं बल्कि नेता की बदौलत जीत हासिल होती रही है। दूसरी रैली चांदनी  चौक में हुई थी, जहां से 10 विधानसभा में पार्टी को सिर्फ 5 पर जीत दर्ज हुई है।

चांदनी चौक के प्रत्याशी सुमन गुप्ता हार गए। जबकि, इसी से सटी सीट सदर बाजार भी आम आदमी पार्टी के खाते में चली गई। चांदनी चौक से कांग्रेस की विजय हुई है। इसके अलावा सुल्तानपुर माजरा में भी मोदी फैक्टर का असर नहीं दिखा। यहां से सुल्तानपुर माजरा, मंगोलपुरी, रोहिणी, मुंडका, शकूरबस्ती में भी भाजपा हार गई।

भाजपा-अकाली को 70 में से कुल 32 सीटों पर ही जीत हासिल हुई, जबकि सरकार बनाने के लिए उसे 36 सीटों की जरूरत है। भाजपा की अगर जीत हुई है तो सिर्फ कांग्रेस सरकार विरोधी लहर की बदौलत। लेकिन, वोट पर्सेंट आप आदमी पार्टी से कम है। मोदी फैक्टर पर पार्टी के अध्यक्ष राजनाथ सिंह का जवाब गोलमोल था। उन्होंने मोदी के साथ-साथ दिल्ली में मुख्यमंत्री के प्रत्याशी डा. हर्षवर्धन को भी श्रेय दिया। राजनाथ सिंह के मुताबिक हर्षवर्धन की क्लीन इमेज की लोकप्रियता का लाभ पार्टी को मिला है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You