आंध्र विधानसभा सत्र में तेलंगाना विधेयक पर होगी चर्चा

  • आंध्र विधानसभा सत्र में तेलंगाना विधेयक पर होगी चर्चा
You Are HereNational
Monday, December 09, 2013-7:12 PM

हैदराबाद: आंध्र प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र की शुरुआत गुरुवार से होगी और इस दौरान तेलंगाना विधेयक पर चर्चा होगी। विधानसभा और विधान परिषद में कार्यवाही का फैसला राज्य मंत्रिमंडल की पिछले सप्ताह हुई बैठक के बाद लिया गया। यह फैसला केंद्रीय कैबिनेट की पांच दिसंबर को हुई बैठक में लिया गया जहां आंध्र प्रदेश पुनर्गठन विधेयक 2013 को मंजूरी दे दी गई।

विधायी मामलों के मंत्री डी. श्रीधर बाबू ने संवाददाताओं को बताया कि तेलंगाना विधेयक पर सत्र के दौरान चर्चा होगी। उन्होंने सदन की सहज कार्यवाही के लिए सभी पार्टियों से सहयोग की मांग की। विधेयक के कैबिनेट में पारित होने के बाद इसे राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के पास भेजकर संविधान के अनुच्छेद तीन के तहत इसे राज्य विधानसभा में स्थांतरित करने का अनुरोध किया गया है। राष्ट्रपति संभवत: सोमवार या मंगलवार को इसे विधानसभा में भेजेंगे और इसे एक निर्धारित समय के अंदर वापस करने की मांग करेंगे।

विधेयक पर चर्चा हालांकि, महज औपचारिकता है क्योंकि सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी के सीमांध्र के विधायक इस पर मतदान के लिए तैयार हैं। वे अन्य पार्टियों से भी समर्थन की मांग कर रहे हैं।मुख्यमंत्री एन. किरण कुमार रेड्डी द्वारा सार्वजनिक रूप से इस विधेयक को सदन में मंजूरी न मिलने की बात कहे जाने पर सदन में कार्यवाही हंगामेदार होने की संभावना है।

रेड्डी की कांग्रेस नेतृत्व के खिलाफ खुली बगावत से तेलंगाना के विधायक और अन्य पार्टियों के विधायक नाराज हैं और वे मतदान का विरोध कर रहे हैं, क्योंकि विधानसभा इस पर सिर्फ अपना विचार व्यक्त करेगी। विधानसभा के 294 सदस्यों में 119 तेलंगाना क्षेत्र से हैं और कोई भी मतदान विधेयक को अस्वीकृति की तरफ ले जाएगी। तेलंगाना से विधायक श्रीधर बाबू ने कहा कि सदन सिर्फ संविधान के मुताबिक अपना विचार जाहिर कर सकता है।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि गर्म माहौल के बीच अध्यक्ष नदेनदला मनोहर को महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। अगर यह विधेयक बुधवार तक सदन में पहुंचेगा, तब कार्य मंत्रणा समिति (बीएसी) इस पर बहस की अवधि तय करेगी। अध्यक्ष सत्र की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पुलिस अधिकारियों के साथ भी बैठक करेंगे। पुलिस तेलंगाना के विरोधी और समर्थकों को दूर रखने के लिए विधानसभा के अंदर और बाहर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम करेगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You