आईएनएस विक्रमादित्य में वायु रक्षा प्रणाली मौजूद नहीं: एंटनी

  • आईएनएस विक्रमादित्य में वायु रक्षा प्रणाली मौजूद नहीं: एंटनी
You Are HereNational
Wednesday, December 11, 2013-4:21 PM

नई दिल्ली: सरकार ने आज बताया कि रूस में 16 दिसंबर 2013 को भारतीय नौसेना को आधिकारिक रूप से दिए गए पोत आईएनएस विक्रमादित्य में वायु रक्षा प्रणाली मौजूद नहीं है। रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने आज राज्यसभा को स्मृति जुबिन ईरानी के एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आईएनएस विक्रमादित्य को भारतीय रक्षा सेवा में शामिल कर लिया गया है।

उन्होंने बताया कि भारतीय सामुद्रिक हितों का विस्तार समूचे हिन्द महासागर में होने से, आईएनएस विक्रमादित्य से मिल रही नौसैनिक क्षमता में महत्वपूर्ण योगदान मिलने की आशा है। एंटनी ने वानसुक साइम के एक अन्य प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि आईएनएस विक्रमादित्य के सुरक्षित प्रचालन के लिए उपयुक्त तकनीकी उपाय किए गए हैं तथा कर्मियों का प्रशिक्षण पूरा हो गया है।

उन्होंने एच के दुआ के एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि सरकार की योजना नौसेना में तीसरे विमान वाहक पोत को शामिल करने की भी है। च्च्एक और विमानवाहक वर्तमान में कोच्चि स्थित कोच्चि शिपयार्ड लिमिटेड (सीएसएल) में निर्माणाधीन है। इसका नामकरण आईएनएस विक्रांत किया जाना है। एंटनी ने बताया कि वर्तमान में कार्यरत आईएनएस विराट तय अवधि तक कार्य करता रहेगा।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You