अरुण जेटली ने लिखा अन्ना हजारे को पत्र

  • अरुण जेटली ने लिखा अन्ना हजारे को पत्र
You Are HereNational
Thursday, December 12, 2013-12:04 PM

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने जनलोकपाल के लिए अनशन कर रहे अन्ना हजारे को पत्र लिखकर कहा है कि उनकी पार्टी भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए सशक्त लोकपाल के प्रति वचनबद्ध है।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता ने अन्ना हजारे के पत्र का जवाब देते हुए कहा है कि भाजपा सार्वजनिक जवाबदेही के उच्च मानदंडों के प्रति वचनबद्ध है और उसका मानना है कि लोकपाल व्यवस्था को तुरंत लागू किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि लोकसभा में पारित लोकपाल विधेयक न तो जन लोकपाल था और न ही अन्ना हजारे की अपेक्षाओं की कसौटी पर खरा उतरता था। उन्होंने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार ने लोकसभा में संख्याबल के आधार पर विधेयक को पारित कराया था और उसके प्रावधानों के अनुसार लोकपाल स्वतंत्र संस्था नहीं बल्कि सरकार के नियंत्रण वाली संस्था बन जाएगी।

भाजपा नेता ने कहा, ‘‘सरकारी लोकपाल बनाना न तो आपका मकसद है और न ही हमारा।’’ राज्यसभा में समूचा विपक्ष लोकसभा में पारित ‘सरकारी लोकपाल’ के खिलाफ खड़ा हो गया था। सभापति ने उस समय सदन की कार्यवाही अनिश्चतकाल के लिए स्थगित कर देश को सशक्त लोकपाल से वंचित कर दिया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You