2014 तक युद्ध के मैदान में उतरने के लिए सक्षम होगा तेजस : ब्राउन

  • 2014 तक युद्ध के मैदान में उतरने के लिए सक्षम होगा तेजस : ब्राउन
You Are HereNational
Thursday, December 12, 2013-6:28 PM

शिलांग: भारत का पहला स्वदेशी विकसित निर्मित हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) 2014 तक लड़ाई के मैदान में उतरने के लिए पूरी तरह से सक्षम हो पाएगा। यह जानकारी भारतीय वायुसेना के प्रमुख एन.ए.के. ब्राउन ने मेघालय की राजधानी में गुरुवार को दी।

अपर शिलांग में एडवांस लैंडिंग ग्राउंड पर एअर चीफ मार्शल ब्राउन ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘चौथी पीढ़ी का लड़ाकू विमान तेजस एमआईजी 21 की जगह लेगा और विमान एलसीए मार्क 1 प्रकार का होगा। इनमें से 40 को 2014 तक भारतीय वायुसना में शामिल किया जाएगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘आज से आठ दिनों बाद मैं बेंगलुरू के लिए रवाना होउंगा जहां हम तेजस एलसीए के लिए दूसरा आपरेशनल क्लीरेंस, प्रारंभिक संचालन क्लीरेंस को स्वीकार करेंगे। इस मौके पर रक्षा मंत्री ए. के. एंटनी भी मौजूद रहेंगे।’’ 31 दिसंबर को सेवानिवृत्त होने जा रहे एअर चीफ मार्शल पूर्वी वायुसेना कमान मुख्यालय में विदाई दौरे पर थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You