हिंसा से कुछ भी हासिल नहीं होगा: प्रणब मुखर्जी

  • हिंसा से कुछ भी हासिल नहीं होगा: प्रणब मुखर्जी
You Are HereNational
Friday, December 13, 2013-10:24 PM

नई दिल्ली : राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जम्मू-कश्मीर के छात्रों के एक समूह से आज कहा कि विकास के लिए शांति बहुत जरूरी है और हिंसा के जरिए कुछ भी हासिल नहीं किया जा सकता।

छात्रों से रू-ब- रू हुए राष्ट्रपति ने कहा कि इस दौरे से उन्हें यह अहसास होगा कि वे भले ही बहुत दूर की जगहों पर रह रहे हों पर वे ऐसे महान राष्ट्र का हिस्सा हैं जहां उनके भाई-बहन रहते हैं। राष्ट्रपति ने जोर देकर कहा कि भारत के हर एक हिस्से के लिए एक साथ विकसित होना जरूरी है ।

राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में प्रणब के हवाले से बताया गया कि राष्ट्रपति ने कहा कि विकास के लिए शांति बहुत जरूरी और हिंसा के जरिए कुछ भी हासिल नहीं किया जा सकता । जम्मू-कश्मीर के गंदरबल जिले के 28 छात्रों के एक समूह ने राष्ट्रपति से मुलाकात की।
 
‘ऑपरेशन सद्भावना’ के तहत 5 राष्ट्रीय राइफल्स द्वारा आयोजित दिल्ली और ओडि़शा की शिक्षण या प्रेरणादायी यात्रा के दौरान ये छात्र राष्ट्रीय राजधानी में आए हैं।  इस यात्रा के हिस्से के तौर पर छात्रों के ओडि़शा दौरे की ओर इशारा करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि सम्राट अशोक के लिए कलिंग का युद्ध एक निर्णायक मोड़ साबित हुआ जिससे उन्होंने हिंसा छोड़ दी और एक उत्साही मिशनरी बन गए । अशोक ने फिर अपनी सारी उम्र बुद्ध के शांति और अहिंसा के संदेश के प्रचार में बिताई। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You