आप सरकार के खिलाफ बड़ी साजिश

  • आप सरकार के खिलाफ बड़ी साजिश
You Are HereNcr
Monday, December 30, 2013-12:35 PM

नई दिल्ली (ताहिर सिद्दीकी): भ्रष्टाचार खिलाफ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के तीखे तेवरों से पूर्ववर्ती सरकार में अहम विभागों को संभाल रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के हाथ-पांव भूल गए हैं। पार्टी आलाकमान के आदेश से केजरीवाल सरकार को समर्थन देना अब उनके लिए गले की फांस बन गया है। विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक पर्दे के पीछे मौजूदा सरकार के रफ्तार पकडऩे से पहले ही ब्रेक लगाने का खेल चल रहा है।

सूत्र बताते हैं कि इसमें पूर्ववर्ती सरकार के एक बड़े नेता के करीबी अधिकारी के जरिए इस खेल को अंजाम देने की कोशिश की जा रही है। ये अधिकारी पूर्ववर्ती सरकार में महत्तवपूर्ण पद पर आसीन थे। इस तरह की गोटियां बिछाने की कोशिश की जा रही हैं कि सदन में बहुमत साबित करने के दौरान कांग्रेस के 4 विधायक अनुपस्थित रहें। इसके लिए उन चारों विधायकों को मनाने के लिए हर पैंतरेबाजी अपनाई जा रही है।

हालांकि इन विधायकों को शीला दीक्षित सरकार में कोई पद नसीब नहीं हुआ था। इसमें से एक जद (यू) से तो एक हाल में कांग्रेस में शामिल हुए बताए जाते हैं। पिछली सरकार में महत्तवपूर्ण विभाग संभाल रहे वरिष्ठ नेताओं को भ्रष्टाचार में फंसने के साथ ही अपना राजनीतिक कैरियर खत्म होने का डर बुरी तरह सता रहा है।

भ्रष्टाचार के खिलाफ पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी के सख्त तेवरों से भी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सकपकाए हुए हैं। ऐसे में भ्रष्टाचार की गंगा में उनके साथ ही डुबकी लगाने वाले उक्त करीबी अधिकारी को सक्रिय कर दिया गया है। केजरीवाल सरकार सदन में बहुमत साबित न कर सके इसके लिए हर तिकड़मबाजी अपनाई जा रही है।

इस कड़ी में कुछ विधायकों को अनुपस्थित कराने के अलावा अन्य विकल्पों को भी टटोला जा रहा है। उल्लेखनीय है कि केजरीवाल सरकार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग छेड़ दी है। वहीं, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी भ्रष्ट नेताओं के सख्त खिलाफ हैं। राहुल पार्टी को ऐसे तत्वों से मुक्त कराने की कोशिश में लगे हैं। वह हाल ही में आदर्श हाउसिंग सोसायटी घोटाले की जांच रिपोर्ट को महाराष्ट्र सरकार द्वारा नामंजूर करने पर भी नाखुशी जता चुके हैं।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You