सरकारी जमीन कब्जियाने के आरोप में दंगा पीड़ितों पर मुकदमें

  • सरकारी जमीन कब्जियाने के आरोप में दंगा पीड़ितों पर मुकदमें
You Are HereNational
Saturday, January 04, 2014-9:38 AM

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर और शामली में राहत शिविरों से हटाए गए 103 लोगों पर सरकारी जमीनों पर कब्जा करने के आरोप में मुकदमें दर्ज किए गए हैं राज्य के महानिरीक्षक कानून व्यवस्था अमरेन्द्र सेंगर ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इन सभी मामलों में जांच की जा रही है। शामली के झिंझाना थाने में गुलाब सिंह वन रक्षक ने ग्राम रोटन में वन विभाग की जमीन पर अवैध रप से कब्जा करने के मामले में विगत 29 नवम्बर को चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। इस मामले में अफसर उर्फ भूरा. डा.अहमद और शौकत को नामजद किया गया था। इन लोगों ने वन विभाग की उस जमीन पर पक्का निर्माण कर लिया था।

पुलिस ने विवेचना के दौरान 27 लोगों के नाम और इस मुकदमें जोडे हैं जिन्होंने भी अवैध कब्जा किया है। इसी प्रकार शामली के इसी थाना क्षेत्र के तहत राजस्व निरीक्षक ओमपाल शर्मा ने 31 दिसम्बर को मुकदमा दर्ज कराया कि ग्राम मंसूरा में नवाब आदि 22 लोगों ने सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा कर झुग्गी झोपडी डाल ली हैं। सेंगर ने बताया कि इसी पकार मुजफ्फरनगर में थाना शाहपुर में लेखपाल हरसौली ने सरकारी जमीन पर कब्जा करने का मुकदमा चार अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज कराया था1 इस मामले में विवेचना के दौरान 18 लोगों के नाम और जोडे गए1 इसी प्रकार इसी थाने के तहत 27 दिसम्बर को लेखपाल ने मुकदमा दर्ज कराया कि ग्राम सांझक में 29 लोगों ने सरकारी जमीन पर कब्जा कर लिया है। सेंगर ने बताया कि इन चारों मुकदमों में पुलिस विवेचना कर कार्रवाई कर रही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You