अरविंद..अरविंदर गठबंधन की छाया में सरकार भूली भ्रष्टाचार: हर्षवर्धन

  • अरविंद..अरविंदर गठबंधन की छाया में सरकार भूली भ्रष्टाचार: हर्षवर्धन
You Are HereNational
Monday, January 06, 2014-4:55 PM
नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता हर्षवर्धन ने कहा कि राजधानी की जनता ने जिस उम्मीद से आम आदमी पार्टी (आप) पर विश्वास जताया था उपराज्यपाल का अभिभाषण उन पर कुठाराघात है।  राज्य विधानसभा में आज उपराज्यपाल नजीब जंग के अभिभाषण पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए डा. हर्षवर्धन ने कहा कि आप ने चुनाव में जिन तरह से भ्रष्टाचार और महंगाई से निपटने के लिए जनता से बड़े-बड़े वादे किए थ। वह अभिभाषण से पूरी तरह गायब हैं।
 
डा. हर्षवर्धन ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, उनके मंत्रिमंडल के कई सहयोगियों और अधिकारियों को भ्रष्टाचार के लिए जेल भेजने की घोषणा करने वाले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अब उन्हें बचाने में जुट गए हैं। उन्होंने कहा कि यमुना की सफाई परहजारों करोड खर्च करने वाली शीला सरकार में अब आप की सरकार को कोई गड़बड़ी नजर नहीं आ रही और अभिभाषण में नदी की सफाई का कोई उल्लेख नहीं हैं।
 
विपक्ष के नेता ने कहा कि केजरीवाल शुचिता की बड़ी-बड़ी बात कर रहे हैं। लेकिन वह यह बताने में असमर्थ हैं कि किसका वीआईपी कल्चर खत्म करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि विधायकों की गाडिय़ों पर लालबत्ती नहीं लगाने का उच्चतम न्यायालय पहले ही आदेश दे चुका है।
 
सरकार योजनाओं को कैसे लागू करेगी इसका अभिभाषण में कोई उल्लेख नहीं है। बिजली कंपनियों के भ्रष्टाचार पर कैसे काबू पाया जाएगा। बिजली के मीटर कैसे बदले जाएंगे। सरकार अब यह बताने से कतरा रही है।
 
उन्होंने कहा, ‘‘अरविंद..अरविंदर गठबंधन की छाया में सरकार अब भ्रष्टाचार भूल गई लगती है।’’  उन्होंने कहा कि आप की सरकार से लोगों में भ्रष्टाचार और महंगाई को काबू करने की जो आशा जगी थी वह पूरी तरह निराशा में बदल गई है। नई सरकार के गठन के बाद से सीएनजी की कीमतों में एक बार की सर्वाधिक बढ़ोतरी कर दी गई। पानी के दाम दस प्रतिशत बढा दिए गए। पेट्रोल, डीजल महंगा हो गया। सिलेंडर के दाम बढ़ गए।
 
डा. हर्षवर्धन ने कहा कि अभिभाषण से दिल्ली का नौजवान ठगा सा रह गया है। इसमें बेरोजगारी दूर करने के लिए एक भी शब्द नहीं है। उन्होंने कहा कि यह वही केजरीवाल ने जो 2010 में राष्ट्रमंडल खेलों में भ्रष्टाचार को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के खिलाफ संसद मार्ग थाने में प्राथमिकी दर्ज कराने गए थ। दिन में कई बार शीला दीक्षित को जेल भेजने की घोषणा करते थे, किंतु सत्ता हासिल करते ही सब कुछ बदल गया है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You