लश्कर के संदिग्धों के बारे में गृह मंत्रालय को दिल्ली पुलिस से मिली रिपोर्ट

  • लश्कर के संदिग्धों के बारे में गृह मंत्रालय को दिल्ली पुलिस से मिली रिपोर्ट
You Are HereNational
Wednesday, January 08, 2014-9:25 PM

नई दिल्ली: समझा जाता है कि दिल्ली पुलिस ने गृह मंत्रालय को सूचित कर दिया है कि मुजफ्फरनगर के दो निवासियों में से एक पश्चिमी उत्तर प्रदेश का छोटा मोटा अपराधी है। इन दोनों निवासियों से लश्कर-ए-तैय्यबा के संदिग्ध आतंकियों ने संपर्क किया था।

बताया जाता है कि गृह मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट में दिल्ली पुलिस ने सूचित किया है कि उक्त दोनों निवासी मुजफ्फरनगर दंगों के पीडित नहीं हैं या सांप्रदायिक हिंसा में उनका कोई भी लेना देना नहीं था। सूत्रों ने बताया कि मुजफ्फरनगर के दो निवासियों में से एक छोटा मोटा अपराधी है और वह पश्चिम उत्तर प्रदेश में कई अपराधों में लिप्त रहा है। दूसरे व्यक्ति की पृष्ठभूमि का पता लगाया जा रहा है।

दिल्ली पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मामले की जांच अभी चल रही है और किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले कुछ और संदिग्धों से पूछताछ की जानी है। दिल्ली पुलिस के अनुसार लश्कर ए तैय्यबा के संदिग्ध आतंकी मोहम्मद शाहिद और मोहम्मद राशिद ने लियाकत और जमीर से मुलाकात की थी। शाहिद और राशिद को हरियाणा के मेवात क्षेत्र से हाल ही में गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने मुजफ्फरनगर निवासी लियाकत और जमीर से मुलाकात की थी। ये मुलाकात एक मस्जिद के निर्माण के लिए धन जुटाने के सिलसिले में थी।

दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा ने पिछले महीने दावा किया था कि उसने दो संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार कर लश्कर के आतंकी माडयूल को ध्वस्त कर दिया है, जो दिल्ली में आतंकवादी हमले की योजना बना रहा था। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पिछले साल अक्तूबर में चुनाव प्रचार के दौरान यह दावा कर विवाद पैदा कर दिया था कि खुफिया एजेंसी के अधिकारियों ने उन्हें बताया है कि आईएसआई मुजफ्फरनगर दंगों के पीडितों में असंतुष्ट युवकों की भर्ती की कोशिश कर रही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You