आत्मसमर्पण किए माओवादी नेता को अपनी हिरासत में ले सकती है एनआईए

  • आत्मसमर्पण किए माओवादी नेता को अपनी हिरासत में ले सकती है एनआईए
You Are HereNational
Thursday, January 09, 2014-9:11 PM

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) आंध्रप्रदेश पुलिस के समक्ष अपनी पत्नी के साथ आत्मसमर्पण कर चुके एक प्रमुख माओवादी नेता की हिरासत की मांग सकती है क्योंकि छत्तीसगढ़ के दरभा घाटी नक्सल हमले के संबंध में उसके पास अहम जानकारी हो सकती है।

दो दिन पहले 45 वर्षीय जीवीके प्रसाद उर्फ गुदसा उसेंडी ने अपनी पत्नी संतोषी मारकम के साथ आत्मसमर्पण किया है। प्रसाद भाकपा (माओवादी) की दंडकारण्य स्पेशल जोन कमिटी (डीकेएसजेडसी) का प्रवक्ता था जबकि संतोषी उर्फ जैनी डीकेएसजेडसी प्रेस इकाई की ‘मंडलीय समिति’ सदस्य थी। प्रसाद पर 20 लाख रूपये का इनाम है और उसने तकरीबन 28 साल तक माओवादियों की विभिन्न भूमिगत गतिविधियों में हिस्सा लिया था।

एनआईए सूत्रों ने बताया कि उनकी एजेंसी माओवादियों के पिछले साल के दरभा घाटी हमले पर कुछ जानकारी पाने के लिए प्रसाद की हिरासत लेना चाहेगी। सुकमा जिले की दरभा घाटी में हमले में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नंद कुमार पटेल और सलवा जुडुम संस्थापक महेन्द्र करमा समेत कम से कम 27 कांग्रेस नेता मारे गए थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You