मेरी पतंग कभी उलझती नहीं, अटकती नहीं: मोदी

  • मेरी पतंग कभी उलझती नहीं, अटकती नहीं: मोदी
You Are HereNational
Tuesday, January 14, 2014-1:27 PM

अहमदाबाद: गुजरात के मुखयमंत्री और बीजेपी के पीएम इन वेटिंग नरेंद्र मोदी को लिखने का काफी शौक है। मोदी राजनीति के साथ-साथ कविताए भी लिखते हैं। हाल ही में मोदी में अपनी वेबसाइट पर एक कविता पोस्ट की है। मोदी ने ट्विटर पर बताया कि उन्होंने  'उत्सव' शीर्षक वाली यह कविता  80 के दशक में लिखी थी। मोदी ने यह कविता गुजरात में मनाए जा रहे उत्सव उत्तरायण के मौके पर पोस्ट की है। वहीं कविता पढ़ने वाले इसके राजनीतिक मायने निकाल रहे हैं।

 

मोदी की कविता की उस लाइन के सभी ज्यादा मायने निकाल रहे हैं जिसमें मोदी ने लिखा है-अनेक पंतगों के बीच मेरी पतंग उलझती नहीं, वृक्षों की डालियों में फंसती नहीं। मोदी ने ट्विटर पर उत्तरायण की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आज आसमान पर रंग-बिरंगी  पतंगे उड़ेंगी और इस अवसर पर मोदी ने कहा कि इसलिए मैं भी अपनी एक कविता पोस्ट कर रहा हूं। मोदी के कविता शेयर करने के बाद कई लोगों के कमैंट आ रहे हैं कि उन्हों ने यह कविता कब लिखी जिस पर मोदी ने कहा कि उन्होंने यह कविता 80 के दशक में लिखी थी।

                       यह है मोदी की कविता: 
                             उत्सव

                                 पतंग
                      मेरे लिए उर्ध्वगति का उत्सव
                     मेरा सूर्य की ओर प्रयाण।

                            पतंग
                     मेरे जन्म-जन्मांतर का वैभव,
                    मेरी डोर मेरे हाथ में
                   पदचिह्न पृथ्वी पर,
                  आकाश में विहंगम दृश्य।

                    मेरी पतंग
               अनेक पतंगों के बीच...
                  मेरी पतंग उलझती नहीं,
             वृक्षों की डालियों में फंसती नहीं।

                      पतंग
            मानो मेरा गायत्री मंत्र।
           धनवान हो या रंक,
        सभी को कटी पतंग एकत्र करने में आनंद आता है,
        बहुत ही अनोखा आनंद।

            कटी पतंग के पास
           आकाश का अनुभव है,
         हवा की गति और दिशा का ज्ञान है।
          स्वयं एक बार ऊंचाई तक गई है,
                  वहां कुछ क्षण रुकी है।

                       पतंग
                 मेरा सूर्य की ओर प्रयाण,
               पतंग का जीवन उसकी डोर में है।
            पतंग का आराध्य(शिव) व्योम (आकाश) में,
                  पतंग की डोर मेरे हाथ में,
               मेरी डोर शिव जी के हाथ में।

           जीवन रूपी पतंग के लिए (हवा के लिए)
                शिव जी हिमालय में बैठे हैं।
           पतंग के सपने (जीवन के सपने)
                         मानव से ऊंचे।

                    पतंग उड़ती है,
             शिव जी के आसपास,
            मनुष्य जीवन में बैछा-बैठा,
         उसकी डोर को सुलझाने में लगा रहता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You