‘केजरीवाल आरोप साबित करें या मानहानि का दावा झेलें’

  • ‘केजरीवाल आरोप साबित करें या मानहानि का दावा झेलें’
You Are HereNational
Thursday, January 16, 2014-11:06 AM

देहरादून: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को महाभ्रष्टाचारी और अवसरवादी बताते हुए वरिष्ठ भाजपा नेता और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने आज आम आदमी पार्टी नेता को चुनौती दी कि 15 दिन के भीतर उनके खिलाफ लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों को साबित करें या मानहानि के दावे का सामना करने को तैयार रहें।

निशंक ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा अरविंद केजरीवाल पिछले तीन साल से मेरे खिलाफ अनर्गल प्रलाप कर देश भर में मेरी छवि धूमिल कर रहे हैं जबकि सच्चाई यह है कि देश में कहीं भी मेरे खिलाफ छोटा या बडा कोई भी मुकदमा दर्ज नहीं है। मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि या तो वह 15 दिन के अंदर अपने आरोपों को साबित करें नही तो मैं उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज करूंगा। इस संबंध में उन्होंने कहा कि केजरीवाल को पहले भी उन्होंने अपने खिलाफ लगाये गये भ्रष्टाचार के आरोपों को साबित करने को कहा था और दो नोटिस भेजे थे। लेकिन केजरीवाल ने उनका कोई जबाव नहीं दिया और उन्होंने भी अपने मित्रों के कहने पर इस मसले को वहीं छोडने का फैसला किया।

निशंक ने कहा,  लेकिन अब पानी सर से उपर आ गया है और अब अगर उन्होंने अपने आरोपों को प्रमाणित न किया तो मैं मानहानि का मुकदमा करूंगा। केजरीवाल पर हमला बोलते हुए भाजपा नेता ने कहा कि उन पर विदेशी एजेंट होने का आरोप लग रहा है और देश की जनता जानना चाहती है कि उनके गैर सरकारी संगठन परिवर्तन को विदेशों से कितना पैसा मिला, किस-किस देश से मिला, किस प्रयोजन के लिये मिला और किस हेतु उसका खर्च किया गया।

निशंक ने कहा, लोगों का कहना है कि देश में अस्थिरता फैलाने के लिये उस पैसे का दुरूपयोग हुआ। केजरीवाल को इस बारे में स्थिति साफ करनी चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी आरोप लगाया कि जिस कांग्रेस के भ्रष्टाचार और घोटालों के प्रति जनता के आक्रोश का फायदा उठाकर उन्होंने दिल्ली में 28 सीटें जीतीं, सरकार बनाने के लिये उसी का समर्थन ले लिया। उन्होंने इसे केजरीवाल की अवसरवादिता बताते हुए कहा, उन्होंने आम आदमी पार्टी को कांग्रेस की बी टीम बना दिया। ऐसा व्यक्ति आम आदमी नहीं हो सकता।

निशंक ने कहा कि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान सरकार बनने की स्थिति में न तो कांग्रेस से समर्थन लेने और न ही उसे समर्थन देने की अपने बच्चों की झूठी कसम खाई थी। उन्होंने कहा कि हांलांकि सत्ता के लालच में उन्होंने उस कसम को भी तोड दिया। भाजपा नेता ने दिल्ली के मुख्यमंत्री पर अन्ना हजारे को धोखा देने और जनता की समस्याओं से दूर भागने का भी आरोप लगाया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You