जंग खा रहा एक्सलेटर, दिक्कतें झेल रहे पैसेंजर

  • जंग खा रहा एक्सलेटर, दिक्कतें झेल रहे पैसेंजर
You Are HereNational
Thursday, January 16, 2014-12:12 AM

नई दिल्ली (धनंजय कुमार): हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन को बने सालों गुजर गए, लेकिन यहां से प्रतिदिन सफर करने वाले करीब 3 लाख यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर आने-जाने के लिए आज भी सीढिय़ां चढऩी पड़ती हैं।

ऐसा नहीं है कि इस स्टेशन पर एक्सलेटर लगाने की कोशिश नहीं की गई। यात्रियों की सुविधा के नाम पर करोड़ों रुपए के एक्सलेटर लाकर इस स्टेशन पर रख भी दिए गए, लेकिन विभागीय लापरवाही की वजह से इसे आजतक नहीं लगाया जा सका है।

हालात यह हैं कि खुले आसमान के नीचे यह एक्सलेटर पिछले करीब एक वर्ष से धूप व बरसात के बीच पड़े हैं। जिसे झांकना तो दूर रेलवे कर्मचारियों व अधिकारियों ने इसका कवर तक हटाना मुनासिब नहीं समझा है। ऐसे में एक्सलेटर लगाने की कल्पना भी कैसे की जाए।

बुजुर्ग व बीमार को सबसे ज्यादा परेशानी:
एक्सलेटर नहीं लग पाने की वजह से यात्रियों को फुट ओवर ब्रिज से पैदल ही जाना पड़ता है। सबसे ज्यादा परेशानी तो बुजुर्ग तथा बीमार यात्रियों को होती है, जिन्हें सीढिय़ां चढऩे में दम फूल जाता है और कई बार बैठने के बाद वह प्लेटफार्म पर पहुंच पाते हैं।

हर दिन 3 लाख यात्री करते हैं सफर :
हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक तथा तमिलनाडु समेत दक्षिण व पश्चिम भारत के अनेक शहरों के लिए ट्रेनें चलती हैं। इसके अलावा दिल्ली-एन.सी.आर. की कई जगहों के लिए लोकल ट्रेनों का परिचालन होता है। जिसमें करीब 3 लाख यात्री सफर करते हैं, लेकिन एक्सलेटर के अभाव में इन्हें सीढिय़ां चढऩी पड़ती हंै।

क्या कहते हैं अधिकारी:
इस बारे में रेलवे दिल्ली मंडल के जनसंपर्क अधिकारी अजय माइकल कहते हैं कि कुछ तकनीकी कारणों से इसे नहीं लगाया जा सका था, लेकिन जल्द ही इस दिशा में उचित कदम उठाकर यात्रियों को सुविधा प्रदान की जाएगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You