दिल्ली CM केजरीवाल को मिली धरने की इजाजत

  • दिल्ली CM केजरीवाल को मिली धरने की इजाजत
You Are HereNational
Monday, January 20, 2014-12:32 PM

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के कार्यालय के बाहर धरना देने जा रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को रेल भवन के पास रोका गया था। सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री केजरीवाल और उनके मंत्रियों को नॉर्थ ब्लॉक के बाहर धरने की अनुमति मिली। गौरतलब है कि केजरीवाल कर्तव्य में कथित शिथिलता के आरोपी दिल्ली पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं जिसके चलते आज वे धरने पर बैठने वाले हैं। नई दिल्ली जिले के आसपास के इलाकों में निषेधाज्ञा लागू है, इसके बावजूद ‘आप’ नेता संजय सिंह ने स्पष्ट किया यदि पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई तो उनकी पार्टी धरना देगी।

 

केजरीवाल ने अपने कैबिनेट के सहयोगियों मनीष सिसोदिया, सोमनाथ भारती और राखी बिड़ला के साथ शुक्रवार को शिंदे से मिलकर सोमवार सुबह 10 बजे तक ‘‘दोषी’’ पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी और ऐसा न होने पर गृह मंत्रालय के समक्ष धरना देने की धमकी दी थी। मुख्यमंत्री ने उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी जिन्होंने दक्षिण दिल्ली में एक संदिग्ध ड्रग एवं वेश्यावृति रैकेट पर छापेमारी करने में कानून मंत्री सोमनाथ भारती का कथित तौर पर सहयोग नहीं किया था।

 

‘आप’ की सरकार ने उस पुलिसकर्मी के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की थी जिसने पश्चिम दिल्ली के सागरपुर में दहेज हत्या के एक मामले में महिला एवं बाल विकास मंत्री राखी बिड़ला से बहस की थी। मुख्यमंत्री ने डेनमार्क की एक महिला से हुए सामूहिक बलात्कार के मामले से निपटने में पुलिस के रवैये पर भी सवाल खड़े किए थे। इस बीच, गृह मंत्रालय ने तीनों घटनाओं पर दिल्ली पुलिस से रिपोर्ट तलब की है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि गृह मंत्रालय पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई से पहले तथ्यों को जानना चाहता है दिल्ली पुलिस ने नई दिल्ली जिले में धारा 144 लगा दी है जिससे गैर-कानूनी तरीके से इकट्ठा नहीं हुआ जा सकता।

 

पुलिस ने कहा कि गणतंत्र दिवस के मद्देनजर एहतियाती उपाय किए गए हैं। दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता राजन भगत ने बताया, ‘‘सीआरपीसी की धारा 144 नई दिल्ली जिले में लगाई गई है। यदि किसी को किसी तरह की शिकायत है तो उन्हें नई दिल्ली इलाके में प्रदर्शन करने या जमा होने की बताया स्थानीय एसएचओ या स्थानीय पुलिस उपायुक्त से संपर्क करना चाहिए।’’ संजय सिंह ने भाजपा और कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि वे इस मुद्दे पर पार्टी को बदनाम कर रहे हैं और लोगों की मदद करना ‘आप’ की जिम्मेदारी है।

 

इस बीच, ‘आप’ की हरियाणा इकाई ने अपने सदस्यों को चेतावनी दी कि वे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की अनुमति के बगैर पार्टी के लेटरहेड का इस्तेमाल कर बैठकें न बुलाएं। हरियाणा इकाई के प्रवक्ता राजीव गोदारा ने चंडीगढ़ में कहा, ‘‘कोई भी कार्यकर्ता या सदस्य जिला या राज्य कार्यकारी समिति की पूर्वानुमति के बगैर पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक नहीं बुला सकता।’’ ऐसी खबरें आई थीं कि हाल ही में पार्टी में शामिल हुए कई सदस्य कई मुद्दों पर बैठकें बुलाकर अपने बयान दे रहे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You