... इसलिए कश्मीर को हथियार मुक्त होना चाहिए: उमर अब्दुला

  • ... इसलिए कश्मीर को हथियार मुक्त होना चाहिए: उमर अब्दुला
You Are HereNational
Wednesday, January 22, 2014-9:47 AM

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुला ने आज कहा कि 1990 में गावकदल में हुई गोलीबारी यह याद दिलाती है कि ‘‘घाटी को हिंसा और हथियार (बंदूक) मुक्त’’ क्यों होना चाहिए। उमर ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट पर लिया है, ‘‘हालांकि हिंसा बहुत कम हो गई है लेकिन गावकदल जैसी घटनाओं की यादें जताती रहती हैं कि कश्मीर को हिंसा और बंदूकों से मुक्त क्यों होना चाहिए।’’ उन्होंने लिया है, ‘‘कश्मीर के हालिया इतिहास में आज एक बेहद काले दिन की बरसी है।

गावकदल में हुई हत्याएं बहुत हद तक बताती हैं कि कश्मीर में क्या गलत हुआ।’’ राज्य के विभिन्न भागों में सुरक्षा बलों द्वारा महिलाओं के कथित यौन उत्पीड़ऩ़ के खिलाफ शहर के बीचोबीच गावकदल में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर इसी दिन सीआरपीएफ के कर्मियों ने गोलियां बरसा दी थीं। आधिकारिक रूप से इस घटना में 28 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की गई लेकिन मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि घटना में कम से कम 50 लोगों की जान गई थी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You