टीचरों की आवाज उठाएगी कांग्रेस

  • टीचरों की आवाज उठाएगी कांग्रेस
You Are HereNational
Wednesday, January 22, 2014-2:23 PM

नई दिल्ली : दिल्ली सचिवालय के बाहर पिछले 7 दिनों से धरने पर बैठे अस्थायी टीचरों के दिन अब फिरने वाले हैं। इन टीचरों के स्पोर्ट में अब कांग्रेस पार्टी आ गई है। मंगलवार को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली इन टीचरों से मिलने पहुंचे। उनके साथ पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के संसदीय सचिव मुकेश शर्मा भी थे।

पूर्व शिक्षा मंत्री अरविंदर सिंह लवली ने धरने को सम्बोधित करते हुए कहा कि वह इन टीचरों की मांग को लेकर कांग्रेस उनके साथ है। वह इन टीचरों के साथ उनकी मांगों को लेकर संघर्ष करेंगे। इसके लिए चाहे उन्हें बुधवार से जंतर-मंतर पर धरने पर ही क्यों न बैठना पड़े। वह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जनता से किया गया उनका वह वादा भी याद दिलाएंगे, जिसमें उन्होंने कहा था कि वह दिल्ली में ठेगा प्रथा समाप्त करके, ठेके पर काम करने वाले सभी कर्मचारियों को स्थायी कर देंगे।

लवली ने हैरानी जताई कि केजरीवाल चार पुलिसकर्मियों स्थांतरण को लेकर रेल भवन पर धरना देने का नाटक कर रहे हैं लेकिन उन्हें सचिवालय के बाहर 7 दिनों से धरना दे रहे टीचर दिखाई नहीं दे रहे। लवली को धरने में आया देख वहां मौजूद टीचर भावुक हो गए। उन्होंने केजरीवाल के विरोध में नारे लगाते हुए बताया कि किस तरह से उन्हें केजरीवाल ने ठगा है। ज्ञात हो कांट्रेक्ट टीचरों का यह धरना 15 जनवरी से चल रहा है। दिल्ली में करीब साढ़े 3 लाख टीचर हैं, जो कांट्रेक्ट पर काम कर रहे हैं।

देश का भविष्य बनाने वाले यह टीचर फिलहाल अपने भविष्य के लिए सरकार से लड़ाई लड़ रहे हैं लेकिन अपने आप को आम आदमी कहने वाले अरविंद केजरीवाल या उनका कोई मंत्री आज तक उनसे मिलने नहीं आया। लवली के रूख को देखकर लगता है कि कांग्रेस अब केजरीवाल सरकार को उन्हीं के अंदाज में सबक सिखाने के मूड में है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You