अनाज भीगने से हुआ भारी नुक्सान

  • अनाज भीगने से हुआ भारी नुक्सान
You Are HereNational
Thursday, January 23, 2014-5:22 PM

 नई दिल्ली (दयाराम): बाहरी दिल्ली के नरेला स्थित नई अनाज मंडी परिसर में खुले में पड़े अनाज के ढेर किसानों व कारोबारियों के लिए परेशानी का सबब बन रहे हैं। मंगलवार व बुधवार को बारिश से काफी धान भीग गया। किसानों का आरोप है कि पिछले करीब 9 वर्षों से अनाज खुले में ही डाला जा रहा है। हर बार किसानों को कवर्ड सैल्टरों की व्यवस्था का आश्वासन दिया जाता है, लेकिन बारिश के दौरान किसानों को अपने धान को बचाना भारी पड़ जाता है।

प्रति ट्रॉली 12 हजार का नुक्सान 

मंडी कारोबारियों व किसानों की मानें तो किसान अपने अनाज की एवज में बेहतर आमदनी की आस लिए मंडी आते हैं, लेकिन मंडी प्रशासन द्वारा बारिश से धान को बचाने की व्यवस्था न होने सेे नुक्सान उठाना पड़ता है। किसानों को प्रति ट्रॉली पर करीब 10 से 12 हजार रुपए का नुक्सान उठाना पड़ रहा है। कारोबारियों की मानें तो उनका कहना है कि मंडी परिसर में कवर्ड सैल्टरों के संबंध में कई बार पैमाइस भी हो चुकी है, लेकिन स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ है।  प्रशासन की लापरवाही से काफी नुक्सान उठाना पड़ता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You