भारतीय छात्रों को लंदन में पढऩे का मौका

  • भारतीय छात्रों को लंदन में पढऩे का मौका
You Are HereNational
Friday, January 24, 2014-4:21 PM

 नई दिल्ली (मनीष राणा): भारतीय छात्रों को अब लंदन में पढऩे का मौका मिलेगा, इसके लिए बकायदा उन्हें छात्रवृत्ति मिलेगी, मगर उन्हें ग्रेजुएशन के बाद काम के लिए भारत लौटना होगा। यह छात्रवृत्ति योजना यूनिर्वसीटी ऑफ वेस्टमिन्सटर व ब्रिटिश काऊंसिल द्वारा दी जाएगी। 

यूनिर्वसीटी के वाइस चांसलर प्रोफेसर जेफरी पेट्स इन दिनों भारत के दौरे पर है। यहां वह जामिया मिलिया इस्लामिया सहित कई संस्थानों के साथ समझौता करने के लिए आए है। यूनिर्वसीटी ने अप्रैल 2012 में भारत में अपनी मौजूदगी दर्ज करवाई और पिछले साल मई में अपनी 175 वीं सालगिरह मनाई। 

इसके साथ ही वेस्टमिन्सटर ने नई दिल्ली के जगन्नाथ इंटरनैशनल मैनेजमैंट स्कूल के साथ भी पार्टनरशिप की है। इसके तहत, वेस्टमिन्सटर बिजनैस स्कूल द्वारा बिजनैस के विद्याथयों को दिल्ली में 2 साल की पढ़ाई पूरी करने के बाद बिजनैस मैनेमैंट में फाइनल ईयर की पढ़ाई लंदन में पूरी करने का मौका दिया जाएगा। वेस्टमिन्सटर यूनिर्वसीटी विद्यार्थियों को आकर्षित करने के लिए यूके में सबसे बड़ी छात्रवृत्ति योजना पेश करती है।
 
भारत में सशक्त मौजूदगी की योजनाओं के मद्देनजर यूनिर्वसीटी ने ब्रिटिश काऊंसिल के ग्रेट स्कॉलरशिप प्रोग्राम के साथ पार्टनरशिप में अपने भारतीय छात्रवृत्ति प्रावधान को विस्तारित किया है। यूनिर्वसीटी एवं ब्रिटिश काऊंसिल द्वारा लॉ, मीडिया, कम्प्यूटकरिंग, बॉयोटैक्नॉलोजी  और मार्कीटिंग के क्षेत्रों में संयुक्त रूप से 6 नई छात्रवृत्तियों का वित्तपोषण किया जाएगा। इन छात्रवृत्तियों की खास विशेषता यह है कि छात्रों को इस शर्त पर छात्रवृत्ति दी जाती है कि ग्रेजुएशन के बाद वे काम के लिए भारत लौटेंगे।                              

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You