जानें क्या है केजरीवाल सरकार का सपना

  • जानें क्या है केजरीवाल सरकार का सपना
You Are HereNcr
Saturday, January 25, 2014-11:03 PM

नई दिल्ली: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली को देश में पहला भ्रष्टाचार मुक्त शहर बनाने के लिए सभी कदम उठाने का आज संकल्प जताते हुए कहा कि उनकी सरकार का यह सपना है। केजरीवाल ने छत्रसाल स्टेडियम में गणतंत्र दिवस के अपने संबोधन में कहा, ‘‘दिल्ली को भारत का पहला भ्रष्टाचार मुक्त शहर बनाने का हमारा सपना है। मेरा जन्म 1947 में नहीं हुआ था, मैं 1977 में छोटा था लेकिन मैं आज क्रांति को देखने के लिए मौजूद हूं। अगर ईमानदार मंशा के साथ अच्छे लोग साथ आ जाएं तो भारत को भ्रष्टाचार मुक्त देश बनाना संभव है।’’

मुख्यमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार उनकी सरकार के लिए बड़ी चुनौती है और उन्होंने दावा किया कि भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाइन जारी करने के बाद यह कम हुआ है। उन्होंने कहा, मैं नहीं कहता कि पिछले 20-25 दिनों में शहर से भ्रष्टाचार का पूरी तरह उन्मूलन हो गया है। लेकिन मुझे जानकारी मिली है कि अधिकारी अब रिश्वत मांगने से डरे हुए हैं। भ्रष्टाचार 20 से 30 फीसदी कम हुआ है। केजरीवाल ने कहा, भ्रष्टाचार निरोधी अधिकारियों ने मुझसे कहा कि रिश्वत लेते रंगे हाथ अधिकारियों को पकडऩे के लिए बिछाए गए सारे जाल पिछले कुछ दिनों में विफल हुए हैं। मैं चाहता हूं कि बिछाए गए सारे जाल विफल हों और कोई भी अधिकारी जेल में नहीं जाए। उन्होंने कहा कि उनका मकसद भ्रष्ट लोगों के दिमाग में खौफ पैदा करना है।

भ्रष्टाचार के गिरते स्तर पर अपने दावों के समर्थन में केजरीवाल ने कहा, यहां (छत्रसाल स्टेडियम) आने के दौरान मेरी कार एक ट्रैफिक सिग्नल पर रुकी। अनेक लोगों ने मुझे घेर लिया। उनमें से अनेक ऑटो चालक थे और उन्होंने मुझसे कहा कि पुलिसकर्मियों ने विगत 15 दिन से धन मांगना बंद कर दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा, यह छोटी बात नहीं  है। यह बड़ी बात है। इन 65 वर्षों में अनेक सरकारें भ्रष्टाचार नहीं दूर कर सकीं लेकिन अगर ईमानदार मंशा के साथ सभी अच्छे लोग साथ आ जाएं तो इसे दूर किया जा सकता है।

एक और उदाहरण देते हुए केजरीवाल ने कहा कि उनके मित्रों में से एक ने उनसे कहा कि उनके पड़ोस में सड़क के किनारे चाय बेचने वाले ने चाय की कीमत आठ रपये से घटाकर 6 रपये कर दी है क्योंकि उसे अब रिश्वत नहीं देना पड़ता है। ‘भ्रष्ट’ व्यवस्था की आलोचना करते हुए केजरीवाल ने कहा कि भले ही हमने सर्वश्रेष्ठ संविधान बना लिया लेकिन उसे अक्षरश: कभी लागू नहीं किया गया। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि अगर भारतीय संविधान को पिछले इतने वर्षों में कम से कम पांच दिन के लिए भी अक्षरश: लागू किया गया होता तो देश की हालत आज जितनी खराब नहीं होती।’’केजरीवाल ने कहा कि सरकार भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए जनलोकपाल विधेयक और स्वराज विधेयक लाने जा रही है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You