अदालत में पेश न होने के चलते शीला ने भरा जुर्माना

  • अदालत में पेश न होने के चलते शीला ने भरा जुर्माना
You Are HereNational
Tuesday, January 28, 2014-12:21 AM

नई दिल्ली : मानहानि के एक मामले में अदालत में पेश न होने के चलते पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित पर लगाए गए पांच हजार रुपए के जुर्माने की राशि सोमवार को अदालत में जमा करा दी गई है। शीला ने भाजपा नेता विजेंद्र गुप्ता के खिलाफ एक मानहानि का मामला दायर कर रखा है। इसी मामले में पिछली सुनवाई पर अदालत ने दीक्षित के पेश न होने पर उन पर पांच हजार रुपए जुर्माना लगाया था। साथ ही कहा था कि वह अगली सुनवाई पर अदालत में पेश हो।

सोमवार को महानगर दंडाधिकारी नेहा के समक्ष शीला पेश हो नहीं हुई परंतु उनकी तरफ से एक अर्जी दायर कर पेशी से छूट मांगी गई। इस अर्जी का विजेंद्र गुप्ता के वकील ने विरोध किया। साथ ही कहा कि शीला पर फिर से जुर्माना लगाया जाए।हालांकि अदालत ने कहा कि उनको इस मामले की फाइल अभी मिली है और उनकी अदालत में यह पहली सुनवाई है। इसलिए वह अभी कोई जुर्माना नहीं लगा रही हैं।

अदालत ने कहा कि पूर्व में लगाया गया जुर्माना शीला की तरफ से जमा करा दिया गया है। जिसके बाद गुप्ता ने कहा कि उनको यह पैसा नहीं चाहिए।  गुप्ता ने कहा कि वह इस पैसे को अपने कार्यकर्ताओं को दे रहे हैं ताकि वह सर्दी में मर रहे गरीबों के लिए कंबल खरीदकर उनको बांट सकें। इस काम को वह आज ही पूरा कर देंगे।

अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने का है आरोप:
अदालत ने शीला की पेशी से छूट की अर्जी को स्वीकारते हुए उनको एक दिन के लिए पेशी से छूट दे दी। अब इस मामले में दो जुलाई को सुनवाई होगी। पिछले साल छह अगस्त को अदालत ने इस मामले में विजेंद्र गुप्ता के खिलाफ आपराधिक मानहानि के मामले में आरोप तय किए थे। दीक्षित ने अपनी अर्जी में कहा था कि गुप्ता ने वर्ष 2012 के एम.सी.डी चुनाव के समय उनके खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग किया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You