महिला की हत्या के मामले में पिता-पुत्र को उम्रकैद की सजा

  • महिला की हत्या के मामले में पिता-पुत्र को उम्रकैद की सजा
You Are HereNational
Wednesday, January 29, 2014-4:19 PM

नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने यौन उत्पीडऩ़़ की शिकायत दर्ज करने वाली महिला की हत्या करने पर एक पिता-पुत्र को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश पवन कुमार जैन ने मोहन लाल और उसके बेटे विक्की को धारा 302 (हत्या) और 354 (महिला का शील भंग करना) समेत भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत दोषी ठहराते हुए दोनों पर 1.32 लाख 1.32 लाख रूपए का जुर्माना भी लगाया।

बहरहाल, अदालत ने मोहन लाल के दो बेटों बंटी और मनीष को यह कहते हुए मामले से बरी कर दिया कि इस मामले में उनके खिलाफ कोई भरोसेमंद सबूत नहीं है।
 
पुलिस के अनुसार महिला और उसके भाई ने मोहन लाल और उसके तीन बेटों के खिलाफ महिला का यौन उत्पीडऩ़़ करने और उसे चोट पहुंचाने की एक प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

महिला के भाई ने अपनी शिकायत में कहा कि जब वे सुनवाई के बाद अदालत कक्ष से बाहर निकल रहे थे तो मोहन लाल और उसके बेटों ने उन्हें धमकाया।

शिकायत के अनुसार उसी रात मोहन लाल और उसके तीन बेटे उसके घर में घुस गए और उसकी बहन समेत परिवार के लोगों को पीटने लगे। उसकी बहन को लोहे की छड़ से चोट लगी।

प्राथमिकी के बाद आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता के शरीर पर चोट के 25 निशान पाए गए।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You