भूख की समस्या अब भी चिंताजनक: प्रणव मुखर्जी

  • भूख की समस्या अब भी चिंताजनक: प्रणव मुखर्जी
You Are HereNational
Wednesday, February 05, 2014-10:22 AM

नई दिल्ली: राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने आज कहा कि अभी भी दुनिया के एक अरब लोगों का भूख की समस्या से जूझना चिंताजनक है और इस स्थिति से निपटने के लिए युद्ध स्तर पर कदम उठाने की जरूरत है।

मुखर्जी ने यहां एशिया अफ़्रीका कृषि व्यापार फोरम का उद्घाटन करते हुए कहा कि भूख से पीड़ित लोगों का बड़ हिस्सा एशिया तथा अफ्रीका महाद्वीपों में है। उन्होंने कहा कि इस बात की आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है कि बड़े पैमाने पर कृषि योग्य भूमि तथा बड़ी संख्या में कृषि मजदूर उपलब्ध होने के बावजूद कई अफ्रीकी औेर एशियायी देशों में खाद्य पदार्थो की कीमतें बहुत ज्यादा है।

उन्होंने कहा कि दोनों महाद्वीपों को आपसी भागीदारी से इन चुनौतियों से निपटना होगा। कृषि व्यापार के क्षेत्र में प्रभावी भागीदारी करनी होगी ताकि दूसरे अंतरराष्ट्रीय बाजारों से प्रतिस्पर्धा की जा सके। मुखर्जी ने कहा कि भारत खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र अपने अनुभव से अफ्रीकी देशों को मदद कर सकता है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You