आरक्षण खैरात नहीं, लोगों का अधिकार: जोगी

  • आरक्षण खैरात नहीं, लोगों का अधिकार: जोगी
You Are HereNational
Thursday, February 06, 2014-2:23 PM

रायपुर: आरक्षण को लेकर कांग्रेस के भीतरखाने में ही विरोधाभास उभर कर सामने आ रहे हैं। जाति पर आधारित आरक्षण पर कांग्रेस प्रवक्ता जनार्दन द्विवेदी के बयान का छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजीत जोगी ने पुरजोर विरोध किया है। उन्होंने कहा है कि आरक्षण खैरात नहीं, इस तरह के लोगों का अधिकार है। यहां मीडियाकर्मियों से चर्चा करते हुए जोगी ने कहा कि जनार्दनजी ने इस तरह के आरक्षण को समाप्त करने की बात कही है, यह गलत है। उन्होंने कहा कि सामान्य वर्ग के साथ अल्पसंख्यक वर्ग के लिए भी अलग से आरक्षण होना चाहिए।

 

जोगी के अनुसार वे निजी क्षेत्र में भी आरक्षण का दायरा बढ़ाए जाने के पक्ष में हैं। उनके अनुसार आजादी के 66 सालों के बाद भी दलितों, आदिवासियों और पिछड़ा वर्ग की हालत किसी से छिपी नहीं है। इतने वर्षों बाद भी शिक्षा और सरकारी नौकरी के क्षेत्र में इन वर्गों का प्रतिशत उनकी आबादी के अनुपात से अत्यधिक कम है। इन वर्गों के केवल 8 प्रतिशत लोगों को ही बड़ी नौकरी मिल पाती है। जोगी ने कहा कि आरक्षण खैरात नहीं इस तरह के लोगों का अधिकार है।

 

संविधान निमार्ताओं ने सोच समझकर ही आरक्षण का प्रावधान नहीं किया होता तो समाज में असंतोष और क्रोध इतना बढ़ जाता कि इसे रोकना मुश्किल हो जाता। उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी से अनुरोध करेंगे कि वे द्विवेदी की बात न मानें।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You