छत्तीसगढ़ विकास कार्यों के लिए लेगा नए ऋण: रमन

  • छत्तीसगढ़ विकास कार्यों के लिए लेगा नए ऋण: रमन
You Are HereNational
Sunday, February 09, 2014-8:52 AM

रायपुर: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह ने राज्य की आर्थिक स्थिति के बेहतर होने का दावा करते हुए कहा कि विकास कार्यों के लिए नए ऋण लिए जाएंगे। डा. सिंह ने बजट पेश करने के बाद विधानसभा परिसर में कहा कि गत 31 दिसम्बर की स्थिति में राज्य पर कुल ऋण भार 22000 हजार करोड़ रुपए का है जोकि सकल घरेलू उत्पाद का 12.53 प्रतिशत ही है। उन्होंने कहा कि सकल घरेलू उत्पाद का राज्य 24 प्रतिशत तक ऋण लेने की अर्हता रखता है। अभी इसकी आधी राशि ही राज्य पर ऋण पर है।

 

उन्होंने राज्य के ऋण लेने के मामले में बीमारू होने की संभावना से साफ इंकार करते हुए कहा कि विकास कार्यों को गति देने के लिए राज्य सरकार विभिन्न वित्तीय संस्थाओं एवं एजेन्सियों से नए ऋण लेगी। राज्य के वित्तीय प्रबन्ध को उन्होंने काफी अ‘छा होने का दावा करते हुए कहा कि रिजर्व बैंक के राज्यों की आर्थिक स्थिति की ताजा अध्ययन प्रतिवेदन में छत्तीसगढ़ विकासमूलक व्यय तथा सामाजिक क्षेत्र पर व्यय में प्रथम तथा पूंजीगत व्यय मे देश में द्वितीय स्थान पर है।

 

डा.सिंह ने कहा कि इस अध्ययन प्रतिवेदन में राजस्व वसूली में छत्तीसगढ पांच अग्रणी राज्यों में तथा गैर कर राजस्व में द्वितीय स्थान पर है। राज्य का ब्याज भुगतान सकल राज्य घरेलू उत्पाद 07 प्रतिशत ही है। उन्होंने बजट को विकासोन्मुखी करार देते हुए कहा कि इसमें सभी वर्गों के हितों को ध्यान में रखा गया है। किसानों के साथ ही उद्योगो को भी मंदी के मद्देनजर कई कर रियायते दी गई है। उन्होंने कहा कि बजट में युवाओं के लिए काफी अहम प्रावधान किए गए है। बजट में चुनाव घोषणा पत्र के कई अहम वादों को पूरा करने के लिए भी धनराशि का प्रावधान किया गया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You