कांग्रेस केंद्रीय चुनाव समिति की पहली बैठक बृहस्पतिवार को होने की संभावना

  • कांग्रेस केंद्रीय चुनाव समिति की पहली बैठक बृहस्पतिवार को होने की संभावना
You Are HereNcr
Sunday, February 09, 2014-2:34 PM

नई दिल्ली: कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की पहली बैठक बृहस्पतिवार को होने की संभावना है। चर्चा है कि राहुल गांधी लोकसभा चुनावों के लिए उम्मीदवारों के नामों की घोषणा शीघ्र करना चाहते हैं। इस माह के अंत तक सभी उम्मीदवारों के नामों को अंतिम रूप दे दिया जाएगा।

पार्टी सूत्रों ने बताया कि विभिन्न राज्यों के लिए केंद्रीय जांच समितियों की बैठकें प्रत्याशियों का चयन करने के लिए की जा चुकी हैं। ये बैठकें पिछले माह संपन्न हुईं और कई प्रदेश निर्वाचन समितियों ने एक पंक्ति का प्रस्ताव पारित कर पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को प्रत्याशी का चयन करने के लिए अधिकृत किया है।

प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया तेजी से चल रही है, जबकि हालिया दशकों में अंतिम समय में प्रत्याशी का चयन किया जाता था। अंतिम समय में प्रत्याशी का चयन होने से उसे लोगों तक पहुंचने का समय नहीं मिल पाता था, इसके बावजूद यह चलन जारी रहा। लोकसभा चुनाव अप्रैल मई में होने की संभावना है और अभी प्रत्याशी का चयन करने से उन्हें चुनाव की तैयारियों के लिए कम से कम दो माह का समय मिल जाएगा।

अखिल भारतीय कांग्रेस समिति की 17 जनवरी को बैठक होने के बाद प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया को गति मिल गई थी। सूत्रों ने बताया कि राहुल गांधी चाहते हैं कि प्रत्याशियों को चुनाव की तैयारी के लिए पर्याप्त समय मिल सके। ए.के एंटनी पैनल को कुछ साल पहले विधानसभा एवं लोकसभा चुनावों के लिए पार्टी की कार्ययोजना बनाने का जिम्मा सौंपा गया था। पैनल ने सिफारिश की है कि प्रत्याशियों के नामों की घोषणा चुनावों से कुछ माह पहले कर दी जानी चाहिए। पैनल की सिफारिश पर मध्यप्रदेश में हाल ही संपन्न विधानसभा चुनावों सहित कई मौकों पर अमल करने के प्रयास किए गए।

बहरहाल, पार्टी में टिकट वितरण को लेकर अंतर्कलह, असंतोष और इस आशंका की वजह से यह नहीं हो पाया कि बागी प्रत्याशी अपनी उम्मीदवारी का ऐलान कर देंगे। पार्टी के करीब 50 पर्यवेक्षकों ने सभी 543 लोकसभा सीटों के दौरे के बाद, प्रत्याशियों की एक अलग सूची बनाई है। इन 50 पर्यवेक्षकों में ज्यादातर सांसद या पूर्व सांसद हैं।

मानकों के अनुसार, लगातार दो चुनाव हारने वाले प्रत्याशियों या गत चुनावों में जमानत जब्त कराने वाले प्रत्याशियों को टिकट नहीं मिलेगा। मध्यप्रदेश में इस साल विधानसभा चुनावों में पार्टी की हार का एक कारण प्रत्याशियों के नामों की घोषणा विलंब से किया जाना है।


 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You