अमेठी में लोगों की नाराजगी भुनाने में जुटे कुमार विश्वास

  • अमेठी में लोगों की नाराजगी भुनाने में जुटे कुमार विश्वास
You Are HereUttar Pradesh
Monday, February 10, 2014-2:03 PM

लखनऊ: विरोधियों की आलोचनाओं को परे रखते हुए आम आदमी पार्टी (आप) लोकसभा के चुनावी अभियान में जुट चुकी है। दिल्ली की सफलता ने उसे जहां आम लोगों के बीच लोकप्रिय बना दिया है वहीं उसके प्रत्याशी इसी लोकप्रियता के सहारे जनता की नब्ज पकड़कर सियासत के सबसे बड़े महाकुंभ में नहाने की तैयारी में हैं। अमेठी में भी इन दिनों कुछ इसी तरह का नजारा हैं, जहां पार्टी के चर्चित चेहरे कुमार विश्वास मौजूदा कांग्रेस सांसद राहुल गांधी को कड़ी चुनौती देने के लिए दिन रात एक किए हुए हैं। विश्वास अमेठी की बदहाली के लिए सीधे-सीधे कांग्रेस को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। यह सीट गांधी परिवार का अभेद किला मानी जाती रही है।

कवि सम्मेलनों के मंच से सियासत के अखाड़े में पहली बार कूदे विश्वास के लिए भले ही यह पहला चुनाव होगा, लेकिन वह एक कुशल सियासी खिलाड़ी की तरह अमेठी के कमजोर विकास, बदहाली और लोगों के आक्रोश के सहारे अपना सियासी रास्ता निकालने की तैयारी में हैं। पिछले जनवरी से अमेठी की सड़कों पर उतरे विश्वास की माने तो उन्हें अमेठी की जनता का भारी समर्थन मिल रहा है। क्षेत्र में अभी तक एक लाख लोगों ने पार्टी की सदस्यता ली है। विश्वास कहते हैं कि अमेठी का पर्याप्त विकास न होने के कारण सूचना के साधन नगण्य हैं। फिर भी आप के लोग जनता तक पहुंचने की कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

कुमार विश्वास कहते हैं कि बिजली के अभाव में अमेठी लोकसभा क्षेत्र के लाखों लोग टीवी तक से भी महरूम हैं। इसलिए देश-दुनिया में हो रहे राजनीतिक और सामाजिक परिवर्तनों की जानकारी आम लोगों को नहीं है। राहुल गांधी या कहे तो गांधी की परंपरागत सीट का यह हाल साफ बता रहा है कि वीवीआईपी सीट होने के बावजूद अगर लोगों तक आम सुविधाएं नहीं पहुंच रही तो यह यहां के लोगों के साथ छल है। चुनावी प्रचार में लगातार लोगों की समस्याएं सुन रहे विश्वास के मुताबिक असल में ये छलावा केवल अमेठी के लोगों के साथ ही नहीं देश की हर वीवीआईपी सीटों की जनता के साथ हुआ है।

विश्वास ने दावा किया कि वीवीआईपी सीट की जनता को अपने जनप्रतिनिधि को देखे ही लंबा वक्त बीत जाता है। उनके मुताबिक, देश में परिवर्तन की लहर का स्वाद दिल्ली चख चुकी है और जिस तरह से दिल्ली की जनता ने झूठे वायदे करने वाले नेताओं से हिसाब लिया है, वैसा ही इस बार न सिर्फ अमेठी बल्कि सभी संसदीय सीटों पर जनता हिसाब मांगेगी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You