वसुंधरा का गुलामनबी से यमुना का पानी दिलाने का आग्रह

  • वसुंधरा का गुलामनबी से यमुना का पानी दिलाने का आग्रह
You Are HereNational
Monday, February 10, 2014-8:27 PM

जयपुर: राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री गुलाम नवी आजाद से यमुना नदी के पानी में राज्य का आवंटित हिस्सा दिलाने के लिए हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है। श्रीमती राजे ने इस बारे में श्री आजाद को पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कहा है कि पत्र में लिखा है कि यमुना के दोनों हेडवक्र्स ताजेवाला और ओखला से राजस्थान के हिस्से का पानी का उपयोग हरियाणा कर रहा है।

यमुना जल समझौते के 20 साल बाद भी राजस्थान को उसके हिस्से का पानी नहीं मिल रहा है। अपर यमुना रिवर बोर्ड के आंकडों से स्पष्ट है कि राजस्थान को यमुना जल में उसके 9 प्रतिशत हिस्से में से मात्र 7 प्रतिशत ही उपलब्ध कराया जा रहा है। दूसरी तरफ हरियाणा 48 प्रतिशत आवंटित हिस्से की बजाय 69 प्रतिशत पानी का उपयोग कर रहा है।

पत्र के अनुसार 21 दिसम्बर 2001 को आयोजित बोर्ड की बैठक में ताजेवाला हेडवक्र्स से 1917 क्यूसेक और ओखला से 1281 क्यूसेक पानी राजस्थान को आवंटित हुआ था। अपर यमुना रिव्यू कमेटी ने इस निर्णय की समीक्षा के लिये 2006 में एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति गठित की थी। जिसने केन्द्रीय जल संसाधन मंत्रालय को 2007 में सौंपी अपनी रिपोर्ट में राजस्थान के हक को सही माना है। यह पानी मुख्य रूप से प्रदेश के चूरू, झुंझुनूं एवं निकटवर्ती क्षेत्रों के लिए है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You