बिना चर्चा के ही लोकसभा में अंतरिम रेल बजट पास

  • बिना चर्चा के ही लोकसभा में अंतरिम रेल बजट पास
You Are HereNational
Monday, February 17, 2014-2:50 PM

नई दिल्ली: लोकसभा ने आज 2014-15 के लिए रेलवे की लेखानुदान की मांगों और इससे संबंधित विनियोग विधेयकों को पारित करने के साथ अंतरिम रेल बजट को मंजूरी दे दी। तेलंगाना मुद्दे को लेकर सुबह से जारी हंगामें और नारेबाजी के बीच सदन ने रेल मंत्री मल्लिकार्जुन खरगे द्वारा रखे गये 2014 15 के लिए रेलवे की लेखानुदान की मांगों और 2013 14 के लिए अनुदानों की अनुपूरक मांगों को बिना चर्चा के अपनी मंजूरी दे दी। 

हंगामे के बीच ही सदन ने इनसे संबंधित विनियोग विधेयकों को भी ध्वनिमत से पारित कर दिया। रेल मंत्री ने बारह फरवरी को लोकसभा में 2014 15 के लिए अंतरिम रेल बजट पेश किया था। इससे पहले लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने भाजपा के अर्जुनराम मेघवाल को 2014 15 के अंतरिम रेल बजट पर चर्चा शुरू करने को कहा।

मेघवाल ने अपनी बात रखनी शुरू की लेकिन तेलंगाना मुद्दे को लेकर सदस्यों की नारेबाजी जारी रही। उधर तृणमूल कांग्रेस के सदस्य पश्चिम बंगाल को केन्द्र की ओर से वित्तीय सहायता दिये जाने की मांग को लेकर अध्यक्ष के आसन के निकट आकर नारेबाजी करने लगे।  अध्यक्ष ने कहा कि सदन में हंगामा जारी रहने और व्यवस्था नहंी बन पाने के कारण अंतरिम रेल बजट पर चर्चा कराना संभव नहीं लग रहा है। 

हंगामें के बीच ही विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने इस बात पर आश्चर्य जताया कि यह कैसी सरकार चल रही है जिसके मंत्री अपनी ही सरकार द्वारा बजट पेश किये जाने के दौरान नारेबाजी कर रहे हैं। उन्होंने रेल मंत्री से अपने निर्वाचन क्षेत्र विदिशा में भोपाल से बीना के बीच मैमू ट्रेन में नए रैक लगाकर चलवाए जाने की मांग की। उन्होंने साथ ही कहा कि पुराने रैक के कारण यह मैमू ट्रेन पेसेंजर गाड़ी की तरह चलती है जिससे इसे चलाए जाने का मकसद ही समाप्त हो गया है। 

समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव ने इटावा मैनपुरी रेल लाइन के निर्माण के काम को जल्द पूरा करने की मांग करते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा ने 1996 में इस रेल लाइन के निर्माण की घोषणा की थी लेकिन अब तक चार किलोमीटर रेल लाइन का ही निर्माण हो सका है। अंतरिम रेल बजट को मंजूरी दिये जाने के बाद हंगामा थमता न देख लोकसभा अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You