नीतिश ने माना, बिहार में बैंकों का व्यवहार आपत्तिजनक

  • नीतिश ने माना, बिहार में बैंकों का व्यवहार आपत्तिजनक
You Are HereNational
Monday, February 17, 2014-3:31 PM

पटना: बिहार विधानसभा में आज राज्य में कारोबार कर रहे बैंकों के रवैये को अत्यंत गंभीर मानते हुए सभाध्यक्ष ने उसके कार्यकलापों पर निगरानी रखने के लिए विशेष समिति बनाये जाने की घोषणा की। विधानसभा मे भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के डा. अच्युतानंद के अल्प सूचित प्रश्न के उत्तर के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हस्तक्षेप करते हुए स्वीकार किया कि राज्य में बैंकों का व्यवहार आपत्तिजनक है। बैंकों के साथ बैठक में बार-बार इस मामले को उठाये जाने के बावजूद बैंकों के रवैये में सुधार नहीं हो पा रहा है।

उन्होंने कहा कि साखजमा अनुपात में सुधार हुआ है लेकिन वह अपर्याप्त है। यहां का जमा पैसा दूसरे राज्यों में जा रहा है। कुमार ने कहा कि बैंका का रवैया नही बदलने पर राज्य सरकार ने निर्णय लिया कि प्राथमिक क्षेत्र में ऋण नही देने वाले बैंकों में सरकारी राशि जमा नही की जायेगी। इस निर्णय के बाद दो बैंको में सरकारी राशि जमा नही की गई जिसके बाद उन बैंकों ने ऋण देने के मामले में सुधार लाया है और राज्य सरकार से अनुरोध किया है कि सरकारी राशि फिर से उनके बैंकों में जमा कराई जाए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You