गर्मियों में पानी के लिए दिल्ली में मचेगी त्राहि-त्राहि

  • गर्मियों में पानी के लिए दिल्ली में मचेगी त्राहि-त्राहि
You Are HereNational
Tuesday, February 18, 2014-2:11 AM
नई दिल्ली(रोहित राय) : इस साल भी गर्मियों में पानी के लिए हाहाकार मचना तय है। दिल्ली की जनसंख्या के हिसाब से गर्मियों के दौरान 1100 एम.जी.डी. पानी की जरूरत होती है लेकिन दिल्ली जल बोर्ड अपने तमाम स्रोतों से सिर्फ 847 एम.जी.डी. पानी की उपलब्ध करवा पाता है। 
 
राजधानी को 80 एम.जी.डी. पानी मुहैया करवाने के लिए मुनक नहर का निर्माण किया गया था लेकिन अभी तक दिल्ली को इस नहर से 80 एमजीडी पानी नहीं मिल रहा है। इस साल भी इस नहर से पानी मिलने की उम्मीद नहीं है। उधर राजधानी में जल बोर्ड द्वारा बिछाई गई 14000 किलोमीटर लंबी पानी की पाइप लाइनों में से करीब 40 प्रतिशत से अधिक लाइनें 50 साल से ज्यादा पुरानी हो चुकी हैं जिससे उनमें से रिसाव होता रहता है। 
 
रिसाव के कारण लाखों लीटर पानी बर्बाद हो रहा है। इसके अलावा बोर्ड द्वारा लाइन में लीकेज ढूंढने के लिए लगाए जाना वाला सैंट्रल मोनिटरिंग सिस्टम भी अभी तक नहीं लग सका है, जिससे लीकेज की जानकारी मिल सके और लीकेज को दूर किया जा सके।
 
सैंट्रल मोनिटरिंग सिस्टम को दिल्ली के सभी जल शोधन संयंत्रों और पानी की पाइप लाइनों को जोड़े जाने की योजना बनाई गई थी जो अभी तक पूरी नहीं हो सकी है। साथ ही हरियाणा दिल्ली के लिए जो 610 क्यूसेक पानी छोड़ता है, वह हैदरपुर पहुंचने तक 420 क्यूसेक ही रह जाता है। बाकी पानी बर्बाद हो जाता है। इसी 190 क्यूसेक पानी को बचाने के लिए मुनक नहर की शुरूआत की गई थी।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You