नमो की रैलियों पर टैक्स लगाने पर भड़की भाजपा

  • नमो की रैलियों पर टैक्स लगाने पर भड़की भाजपा
You Are HereNational
Wednesday, February 19, 2014-6:49 AM
नई दिल्ली, 18 फरवरी (ब्यूरो): केंद्रीय उत्पाद शुल्क विभाग द्वारा नरेंद्र मोदी की रैलियों में प्रवेश के लिए टिकटों पर सेवाकर भुगतान करने की मांग पर भाजपा भड़क उठी है। भाजपा ने सीधे कांग्रेस एवं यू.पी.ए. सरकार पर हमला बोला है। साथ ही वित्त मंत्री से पूछा है कि मोदी की रैलियों पर टैक्स लगाकर क्या वित्त मंत्री पी. चिदंबरम अपनी आमदनी बढ़ाना चाहते हैं। 
 
भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा में नेता विपक्ष अरुण जेतली ने कहा कि इस बात में कोई संदेह नहीं कि यू.पी.ए. सरकार अपना मानसिक संतुलन खो चुकी है। कांग्रेस इतनी हताश हो चुकी है और इसलिए वह ये सब कर रही है। अगर इसी तरह प्रमुख विपक्षी दल और प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार को परेशान किया जाएगा तो देश के आम कर दाता का क्या हाल होगा ये आसानी से समझा जा सकता है।
 
भाजपा नेता अरुण जेतली ने अपने ब्लॉग पर लिखा कि नरेन्द्र मोदी कांग्रेस पार्टी के लिए गले की फांस बने हुए हैं। यही कारण है कि उनसे मुकाबला करने के लिए हर तरीका अपना रही है। चाहे वह सही हो या गलत। वह अभी तक समझ नहीं पाई है कि मोदी से कैसे निपटा जाए।
उनके खिलाफ मीडिया द्वारा शुरू किया गया दुष्प्रचार  बहुत  ज्यादा नुक्सान नहीं कर पाया है। उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित एस.आई.टी. उनके पक्ष में रिपोर्ट दे चुकी है।
 
इस मामले को देख रहे न्यायाधीश एस.आई.टी. की रिपोर्ट को स्वीकार कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि बुरी तरह पीछे पडऩे के बावजूद कोई सबूत नहीं मिलने के कारण सी.बी.आई. भी उनका बाल बांका नहीं कर पाई है। कांग्रेस पार्टी की इस उम्मीद पर पानी फिर चुका है कि नरेन्द्र मोदी राजनीतिक तौर पर अलग-थलग पड़ जाएंगे। जेतली के मुताबिक यू.पी.ए. सरकार ने अब एक नया तरीका ढूंढ निकाला है, जिससे उसे लगता है कि वह उन पर काबू पा लेगी। चाहे सुनने में यह अटपटा लगे लेकिन अब उन्होंने मोदी की रैलियों में कर लगाने का प्रस्ताव रखा है। 
देश में चारों तरफ नरेंद्र मोदी का भाषण सुनने के लिए एकत्र विशाल जन समूह को ध्यान में रखते हुए, हो सकता है कि अपने घटते राजस्व को बढ़ाने के लिए वित्त मंत्री की यह आखिरी उम्मीद हो। राज्यसभा में नेता विपक्ष अरुण जेतली ने कहा कि स्पष्ट तौर पर नरेंद्र मोदी की रैलियों के लिए कोई टिकट नहीं होते। न तो रैलियों में और देश के किसी भी भाग में, भाजपा ने कोई व्यापक धन संग्रह अभियान नहीं चला रखा है। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You