केंद्रीय गृहमंत्री अधिकार क्षेत्र से परे, नहीं कर सकते कार्रवाई: एसीबी

  • केंद्रीय गृहमंत्री अधिकार क्षेत्र से परे, नहीं कर सकते कार्रवाई: एसीबी
You Are HereNational
Friday, February 21, 2014-9:57 PM

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार की भ्रष्टाचार निरोधक शाखा ने अपना फैसला पलटते हुए केंद्रीय गृहमंत्री के खिलाफ पद के दुरपयोग की शिकायत के मामले में जांच करने से इनकार करते हुए कहा है कि यह उसके अधिकार क्षेत्र से परे है। रोचक बात है कि इसी एसीबी ने पिछले हफ्ते ही पेट्रोलियम मंत्री वीरप्पा मोइली, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष मुकेश अंबानी, पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली देवड़ा और हाइड्रोकार्बन के सेवानिवृत्त महानिदेशक वी के सिब्बल के खिलाफ गैस मूल्यों के दामों में वृद्धि के मामले में प्राथमिकी दर्ज की थी।

दिल्ली के आरटीआई कार्यकर्त्ता विवेक गर्ग ने एसीबी में शिकायत दाखिल कर गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे और अन्य के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण इरादे से गलत तरह से फायदे उठाने के लिए कथित तौर पर पद का दुरपयोग करने को लेकर उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग की थी। गर्ग ने शिंदे के खिलाफ अपनी शिकायत का स्तर जानने के लिए आरटीआई के जरिये सवाल पूछा था जिसके जवाब में एसीबी ने बताया कि शिकायत को दिल्ली सरकार के तहत आने वाले सतर्कता निदेशालय को आवश्यक कार्रवाई के लिए भेज दिया गया।

गर्ग की आरटीआई अर्जी के संबंध में एसीबी द्वारा तैयार एक नोट में खुलासा हुआ कि शिकायत सतर्कता विभाग को भेज दी गयी क्योंकि यह उसके अधिकार क्षेत्र से बाहर की बात है। गर्ग ने एसीबी से मांग की थी कि पूर्व गृह सचिव आर के सिंह द्वारा शिंदे के खिलाफ किए गए दावों पर कार्रवाई की जाए। शिंदे के साथ गृह सचिव के तौर पर काम कर चुके आर के सिंह ने दावा किया था कि थाना प्रभारियों के तबादले के लिए दिल्ली पुलिस आयुक्त को गृह मंत्री के दफ्तर से पर्चियां जाती थीं। गृह मंत्री ने इस तरह के सभी दावों को खारिज कर दिया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You