तम्बाखू और शराब पीने वालों के लिए बुरी खबर!

  • तम्बाखू और शराब पीने वालों के लिए बुरी खबर!
You Are HereNational
Thursday, March 06, 2014-11:36 AM

भोपाल: मध्यप्रदेश विधानसभा में आज वाणिज्यिक कर मंत्री जयंत मलैया द्वारा पेश किए गए मध्यप्रदेश वेट संशोधन विधेयक 2014 को ध्वनि-मत से पारित कर दिया गया, जिसमें अन्य चीजों के साथ-साथ अनुसूची-2 में संशोधन कर तम्बाखू उत्पादों पर वेट की दर 13 प्रतिशत से बढाकर 27 प्रतिशत कर दी गई। मध्यप्रदेश वेट संशोधन अधिनियम-2013 को संशोधन कर एक अप्रैल, 2013 से शराब पर 5 प्रतिशत की दर से वेट लगाया गया है। तम्बाखू और शराब पर वेट की कीमत बढ़ाने से अब इसके मूल्यों में भी वृद्घि होगी, जो ग्राहको को निराश कर सकती है।

इसकी धारा-2 में संशोधन करते हुए राज्य के निर्माता व्यापारियों एवं आयाता व्यापारियों द्वारा मदिरा का क्रय करने पर 5 प्रतिशत की दर से कर के भुगतान का दायित्व है तथा कर का भुगतान सक्षम प्राधिकारी द्वारा निर्धारित न्यूनतम विक्रय कीमत पर किया जाना है। धारा-2 (फ) में की गई व्यवस्था के अनुसार मूल्यवान प्रतिफल के रूप में प्राप्त होने वाली रकम पर ही वेट देय होगा। इस संबंध में समुचित संशोधन किए गए हैं। इससे देशी-विदेशी मदिरा से भिन्न मदिरा के मूल्य के संबंध में स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। धारा-4 में संशोधन करते हुए अपील बोर्ड के सदस्य की पदावधि 3 वर्ष तथा पदावधि में अधिकतम दो वर्ष, आयु सीमा 65 वर्ष के अध्यधीन रहते हुए बढाने की व्यवस्था की गई है।

धारा-10 (क) में संशोधन करते हुए क्रय कर दायित्व की सीमा 5 करोड से बढाकर 10 करोड रुपये राशि की गई है। इससे अधिसूचित मालों की क्रय प्रक्रिया में अधिक से अधिक व्यवसायी के भाग लेने तथा किसानों को उनके माल का सही एवं प्रतिस्पर्धात्मक मूल्य मिलने की स्थिति बन सकेगी। वर्तमान में पांच करोड की सीमा के ऊपर क्रय होने पर क्रय कर का दायित्व आने के कारण क्रय प्रक्रिया में पर्याप्त संख्या में व्यवसायियों के भाग लेने की संभावना नहीं रहती, जिससे किसानों को उनके माल का सही एवं प्रतिस्पर्धात्मक मूल्य नहीं मिल पाता।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You