सर्वे ने खोली आम आदमी पार्टी की पोल

  • सर्वे ने खोली आम आदमी पार्टी की पोल
You Are HereNational
Friday, March 14, 2014-4:15 PM

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव से पहले सामने आ रहे सर्वे से आम आदमी पार्टी की उम्मीदें टूटती हुई दिखाई दे रही हैं। 12 राज्यों में 319 सीटों का खाका सामने रखने वाले एनडीटीवी-हंसा रिसर्च सर्वे पर भरोसा किया जाए, तो आम आदमी पार्टी का कोई खास प्रदर्शन नहीं रहने वाला। लेकिन अरविंद केजरीवाल दावा कर रहे हैं कि उन्हें आगामी चुनावों में सौ से ज्यादा सीटें मिलेंगी और वो कांग्रेस को पीछे छोड़ देगी।

भले ही आम आदमी पार्टी देश भर में 300 से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ कर यह दावा करे कि वह  सौ से ज्यादा सीटें जीतने में कामयाब रहेगी, लेकिन यह आभास मिल रहा है कि दिल्ली के अलावा दूसरे किसी भी राज्य में वो कई बड़ा करिशमा करते नहीं दिख रहे। इस सर्वे में आम आदमी पार्टी को चार सीटें दी गई हैं, जो सभी दिल्ली से हैं। यहां की सात सीटों में से दो भाजपा और एक कांग्रेस के खाते में जाने की संभावना जताई गई हैं। इस सर्वे ने तमिलनाडु में डीएमके को झटका दिया है। इसके मुताबिक वहां 39 लोकसभा सीटों में से 27 एआईडीएमके के खाते में जाएंगी, जबकि सिर्फ दस डीएमके के खाते में दी गई हंै।

सर्वे में 319 सीटों में से एनडीए को 166, यूपीए को 52 और अन्य को 85 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है। सर्वे में कहा गया है कि महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन 48 सीटों में से 33 जीतने में कामयाब रहेगा, जबकि कांग्रेस 12 पर सिमट सकती है। सर्वे में अनुमान लगाया गया है कि राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना को भी आगामी लोकसभा चुनावों में एक सीट मिल सकती है। गुजरात में भाजपा को 26 में से 23 सीटें मिलने की उम्मीद जताई गई है और कर्नाटक में वह 28 में से 21 पर जीत हासिल कर सकती है।

मध्य प्रदेश में भाजपा को 29 में से 24 सीटें मिलने की उम्मीद है और कांग्रेस को केवल चार सीट मिलने की संभावना जताई गई है। बिहार में ‌नीतीश को झटका देते हुए भाजपा-एलजेपी 40 में से 23 सीट जीत सकती हैं। कांग्रेस-आरजेडी को 11 और जेडी यू को केवल 5 सीट मिल सकती हैं। ममता बनर्जी की अगुवाई वाली तृणमूल कांग्रेस को पश्चिम बंगाल में 42 में से 32 सीट मिलने की उम्मीद है। राज्य में वाम दलों को 9 सीट और कांग्रेस को एक सीट मिल सकती है। सर्वे में 42 फीसदी लोगों ने अगले प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी को चुना। दूसरे पायदान पर कांग्रेस के राहुल गांधी रहे, जिन्हें 27 फीसदी लोगों ने अपनी पसंद बताया।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You