मुसलमानों को साथ जोडऩे में जुटी भाजपा

  • मुसलमानों को साथ जोडऩे में जुटी भाजपा
You Are HereNational
Saturday, March 15, 2014-10:24 PM

नई दिल्ली (वसीम सैफी): भाजपा भली भांति जान चुकी है कि मुसलमानों को साथ लिए बिना चुनावी समुंदर में मोदी की नाव पार नहीं लग सकती। पार्टी के आला नेताओं के नेतृत्व में अल्पसंख्यकों को साथ जोडऩे के लिए इस दिशा में काम शुरू हो चुका है।


उनका लक्ष्य है कि किसी भी तरह माइनारिटी पोलिंग बूथ वाले क्षेत्रों में कार्यकर्ताओं में जोश भरा जाए। वहां पूरे ढांचे को मजबूत किया जाए। ताकि कार्यकर्ता चुनाव प्रचार से लेकर बूथों पर वोट डलने तक अपनी सक्रिय भूमिका निभा सकें। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा संयोजक अब्दुल रशीद अंसारी बताया कि कुछ पार्टियां सिर्फ भाजपा के प्रति लोगों के दिलों में जहर घोलने का काम कर रही हैं।

हर बार के चुनावों में उनका यही काम होता है। पार्टी का पहला काम है कि वह लोगों के दिलों से इस तरह की गलत फेहमियों को दूर करें। इसके लिए पार्टी ने अल्पसंख्यक क्षेत्रों में सक्रियता बढ़ा दी है। वहां कार्यकर्ताओं को पार्टी के प्रचार का हिस्सा बनाया जा रहा है। पार्टी में ऐसे कार्यकर्ताओं को लिया जा रहा है, जो लास्ट मूवमेंट तक जोश के साथ काम करें।

अंसारी ने बताया कि कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी दी गई है कि वह प्रचार से लेकर माइनोर्टी बूथों तक अंतिम समय तक पूरी तरह से सतर्क रहें और मुस्लिम वोटरों को बांधे रखें।भाजपा के इतिहास में झांके तो उन्हें मुसलमानों का साथ नहीं कि बराबर मिला है। इस बार आम चुनाव में दिलचस्प बात होगी कि भाजपा मुस्लिम वोटरों को कितना अपनी ओर खींच पाती है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You