राजनीतिक सभा में उपद्रव करने वालों की खैर नही

  • राजनीतिक सभा में उपद्रव करने वालों की खैर नही
You Are HereNational
Thursday, March 20, 2014-1:09 PM

मऊ: सभा में उपद्रव करने वालों की अब खैर नही होगी। पुलिस ने इसके लिए लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 127 के तहत कार्रवाई का मन बना लिया है। किसी व्यक्ति ने चुनावी जनसभाओं के दौरान उपद्रव करने की हिम्मत की तो उसे पुलिस जेल भेजने से पीछे नही हटेगी। इस दौरान पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई करेगी जो ऐसी सभा के विश्रृंखलता के लिए किसी को प्रेरित करेगा। इसके लिए छह मास के कारावास या दस हजार रूपये जुर्माना अथवा दोनों सजा का प्रावधान है।

जिला निर्वाचन अधिकारी और चंद्रकांत पांडेय ने कहा कि यदि किसी व्यक्ति के द्वारा किसी सार्वजनिक सभा में उपद्रव करेगा तो उसके खिलाफ पुलिस कार्रवाई करेगी।उन्होने कहा कि मतदान की गोपनीयता बनाए रखना मतदान से जुड़े हरेक अधिकारी एवं कर्मचारी का दायित्व है। इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन के माध्यम से मत डालने के बाद इसका प्रिंट आउट निकलेगा पर यह गोपनीय होगा।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You