यहां मुस्लिम वोटर तय करेंगे भविष्य

  • यहां मुस्लिम वोटर तय करेंगे भविष्य
You Are HereNational
Thursday, March 20, 2014-11:56 PM

नई दिल्ली(सज्जन चौधरी): पूर्वी दिल्ली लोकसभा का भविष्य तय करने में मुस्लिम वोटरों का अहम रोल रहेगा। पूर्वी दिल्ली लोकसभा में लगभग 16 लाख वोटर हैं। इनमें से साढ़े 6 लाख मुस्लिम वोटर हैं। इन साढ़े 6 लाख वोटरों को रिझाने के लिए नेताओं ने जोर आजमाइश शुरू कर दी है।

गौरतलब है पूर्वी दिल्ली लोकसभा की 10 में से 4 विधानसभा सीटों पर मुस्लिम समुदाय के वोटर ठीक-ठाक संख्या में हैं। इनमें ओखला, गांधीनगर, त्रिलोकपुरी और जंगपुरा सीटें शामिल हैं। सिर्फ ओखला सीट पर ही ढाई लाख मुस्लिम वोटर हैं।


पूर्वी दिल्ली लोकसभा से मैदान में उतरे सभी उम्मीदवार मुस्लिम वोटरों को अपने पाले में लाने की जुगत में लग गए हैं। बहुजन समाज पार्टी ने कंाग्रेस के बागी शकील सैफी को पूर्वी दिल्ली से टिकट देकर मुस्लिम वोटरों को अपनी ओर खींचने की कोशिश की है। गौरतलब है शकील सैफी पिछले 25 साल से कांग्रेस से जुड़े रहे थे लेकिन अब उन्हें लग रहा है कि कांग्रेस पार्टी ने न सिर्फ मुसलमानों के साथ बल्कि उनके साथ भी धोखा किया है।

विधानसभा चुनावों के नतीजों को देखते हुए कांग्रेस के लिए पूर्वी दिल्ली सीट इस बार टेढ़ी खीर साबित हो रही है। विस चुनावों में कांग्रेस को पूर्वी दिल्ली में सिर्फ 2 सीटों से संतोष करना पड़ा था। 5 सीटें आम आदमी पार्टी और 3 सीटें भाजपा के हिस्से में गई थीं।
पूर्वी दिल्ली लोकसभा में पिछले चुनावों के समय 16,04,795 वोटर थे। इनमें से 8,57,406 लोगों ने वोट डाले थे। इनमें से लगभग 57 प्रतिशत वोट पाकर कांगे्रस प्रत्याशी संदीप दीक्षित ने भाजपा के क्रिकेटर चेतन चौहान को हराया था। हालांकि यहां से कांग्रेस के पिछले रिकार्ड पर नजर डालें तो पता चलता है कि संदीप दीक्षित ने भाजपा के चेतन चौहान को 2,41,055 वोटों से हराया था।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You