लटक गया आरओबी का निर्माण

  • लटक गया आरओबी का निर्माण
You Are HereNcr
Saturday, March 29, 2014-2:50 PM

नई दिल्ली  (राजेश रंजन सिंह): रेलवे की दिल्ली-भठिंडा लाइन पर स्थित नांगलोई-सुल्तानपुरी रेलवे फाटक को खत्म कर यहां पर रेल ओवरब्रिज (आऱ.ओ.बी.) बनाने की योजना पर काम तो शुरू हुआ, लेकिन 4 साल बीतने के बाद भी इसका 50 फीसदी निर्माण कार्य भी पूरा नहीं हो सका है। वर्ष 2009 में लोकसभा चुनाव के बाद यात्रियों ने सोचा था की आर.ओ.बी बनने से उन्हें आवाजाही में आसनी होगी, लेकिन लोकसभा का कार्यकाल तो बीत गया पर आज तक लोगों को आर.ओ.बी. नहीं बनने से परेशानी हो रही है। 

गौरतलब है कि यह एक मात्र रास्ता है, जो नांगलोई को सुल्तानपुरी, मंगोलपुरी, पूठ कलां, रोहिणी के कुछ सैक्टरों को जोड़ता है। इसके अलावा आवाजाही के लिए दूसरे रास्तों में काफी दूरी तय करनी पड़ती है। लिहाजा, इसके अधूरे काम के कारण लोगों को खासी परेशानियों का सामना पिछले कई वर्षों से करना पड़ रहा है।

सुल्तानपुरी-नांगलोई रेलवे फाटक पर वाहनों और लोगों की भीड़भाड़ को देखते हुए इसे फाटक मुक्त करने की योजना के तहत यहां पर आर.ओ.बी. निर्माण की योजना साल 2010 के दौरान बनाई गई थी। निर्माण कार्य को पूरा करने की जिम्मेदारी दिल्ली नगर निगम को सौंपते हुए योजना पर निर्माण कार्य साल 2012 के अंत समाप्त करने की बात कही गई थी, लेकिन तय समय सीमा बीतने के बाद भी काम बीच में ही लटका हुआ है।

इस परियोजना के बीच में लटकने में कई पेच फंसे पड़े हैं। योजनानुसार आऱ.ओ.बी. बनने के लिए नांगलोई स्थित वर्षों पुराने मार्कीट का एक बहुत बड़ा हिस्सा इसकी भेंट चढ़ जाएगा, जिसके चलते यहां का व्यापारी वर्ग इसके विरोध में है। हालांकि, मामले को सुलझे भी लंबा समय बीत चुका है।  

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You